पिता और बेटे की इमोशनल कहानी – Father Son Story in Hindi

Father Son Story in Hindi

एक 45 साल का बेटा अपने बूढ़े पिता के साथ शाम को घूमने निकला. बेटे ने सोचा अब घर से बाहर आये ही है तो क्यों ना किसी अच्छे रेस्टोरेंट में पिता जी को खाना भी खिला दू. दोनों बाप और बेटा एक बड़े से अच्छे रेस्टोरेंट में जाते है. पिता इतना बूढा है कि बेटा उन्हें हाथ पकड़ कर रेस्टोरेंट के अंदर लेकर आता है.

Emotional Story of Father and Son in Hindi

बाप ये देख कर बहुत खुश होता है कि बेटा उसे उसके सबसे पसंदीदा रेस्टोरेंट में लेकर आया है. किसी वक़्त बाप इसी रेस्टोरेंट में अपनी पत्नी और बच्चो के साथ खाना खाने आता था.

Father Son Story in Hindi

बाप ख़ुशी में अपने बेटे को बताता है कि ये वही रेस्टोरेंट है जहाँ मैं तुम्हे और तुम्हारी माँ को लेकर आता था. बेटा कहता है कि मुझे याद है पिता जी और इसीलिए मैंने सोचा कि आज इसी रेस्टोरेंट में खाना खाया जाए.

Pita Putra ki Kahani

बेटा अपने पिता की सबसे पसंदीदा डिश यानि कि शाही पनीर आर्डर करता है. दोनों खाना शुरू करते है. चूँकि पिता बहुत बूढा और कमज़ोर है, कुछ खाना  उनकी कमीज पैंट पर भी गिर जाता है. ये देख कर रेस्टोरेंट में बैठे सभी लोग उस बूढ़े पिता को घूरने लगते है. सभी सोचते है कि इसे खाना भी नहीं आता. लेकिन उस बूढ़े बाप के बेटे को कोई फर्क नहीं पड़ता.Father Son Story in Hindi

Father Son Story in Hindi

बेटा बड़े आराम से अपना खाना खाता है और अपने पिता के खाने तक का इंतज़ार करता है. जब पिता अपना खाना खत्म करता है तो बेटा बड़े आराम से अपने पिता का हाथ पकड़ कर उसे वाशरूम ले जाता है और कपड़ो पर लगे दाग साफ़ करता है.

Father Story in Hindi

दाग साफ़ करने के बाद बेटा पिता के बालो में कंघी फेरता है और उनकी आँखों पर उनके चश्मे लगाता है.

 

जब दोनों वाशरूम से बाहर आते है तो रेस्टोरेंट में बैठे सभी लोग उन्हें घूरते है कि कैसे उस लड़के के पिता ने अपने बेटे का रेस्टोरेंट में मज़ाक बना दिया.

 

बेटा बिना किसी की परवाह किये बिल देने जाता है. बिल देकर जब वे दोनों रेस्टोरेंट से बाहर जाने लगते है तो एक बूढा व्यक्ति उस लड़के की पीठ पर हाथ रखता है और कहता है, सुनो….

Father Son Story in Hindi

“तुम्हे नहीं लगता कि तुमने इस रेस्टोरेंट में कुछ छोड़ दिया”

 

बेटा इधर उधर देखता है और कहता है “नहीं सर, मैंने कुछ नहीं छोड़ा”

 

वो बूढा इंसान फिर बोलता है “नहीं तुम इस रेस्टोरेंट में कुछ छोड़ कर जा रहे हो और वो है इस रेस्टोरेंट में बैठे लोगों के लिए एक सीख”

 

“बेटा, तुम यहाँ बैठे हर एक बेटे के लिए एक सीख छोड़ कर जा रहे हो और हर एक पिता के लिए उम्मीद”

Moral Values Story in Hindi

“मैंने आज तक ऐसा नहीं देखा कि कोई बेटा अपने पिता की इतने दिल से सेवा करता हो. अपने पिता की जैसे तुम सेवा कर रहे हो वो देख कर मेरी आँखें भी नम हो गयी और तुमने मेरे अंदर एक उम्मीद जगाई है कि शायद मेरा बेटा भी इसी तरह मेरी सेवा करे. धन्य है तुम्हारे माँ बाप जिन्होंने ने तुम्हे इतने अच्छे संस्कार दिए. बेटा, तुम ज़िन्दगी में खूब तरक्की करो और हमेशा खुश रहो”

Father Son Story in Hindi

उस बूढ़े आदमी ने उस बेटे को आशीर्वाद दिया और अपनी जगह पर बैठ गया और ये सब देख कर उस बेटे के पिता का सीना गर्व से 5 इंच और चौड़ा हो गया.

Emotional Story of Father and Son in Hindi

 

दोस्तों, इस भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में हम लोग इतने व्यस्त हो गए है कि अपनों के लिए वक़्त ही नहीं निकाल पाते लेकिन इस कहानी का मूल उद्देश्य यही है कि कभी कभी अपने माँ बाप या रिश्तेदारों के लिए वक़्त ज़रूर निकाले, उनकी दुआए आपको ज़िन्दगी में आगे बढ़ने का काम ज़रूर करेंगी। और उन्हें जो ख़ुशी मिलेगी उसका आप अनुमान भी नहीं लगा सकते.

 

अगर आपको ये Father Son Story in Hindi अच्छी लगी हो तो से शेयर करना ना भूले.

 

धन्यवाद

ये भी पढ़े:

एक अच्छे इंसान की कहानी – Good Man Story in Hindi
बूढ़ी औरत के 50 रुपए… Heart Touching Emotional Story in Hindi
संयम पर बहुत सुन्दर कहानी – Buddha Inspirational Story in Hindi on Patience
Mam…..आपने शादी क्यों नहीं करवाई – A Very Special Story in Hindi
“आखिर अमीर कौन?” Very Heart Touching Story in Hindi
पतिदेव…कभी तो इस स्मार्टफोन को छोड़ दो – Heart touching Story in Hindi
23 साल गुज़ारे जेल में बिना किसी जुर्म के – एक कैदी की कहानी
धर्म की जीत – Moral Based Story in Hindi

Vineet

नमस्ते। मुझे नयी कहानियां लिखना और सुनना अच्छा लगता है. मैं भीड़-भाड़ से दूर एक शांत शहर धर्मशाला (H.P) में रहता हूँ जहाँ मुझे हर रोज़ नयी कहानियां देखने को मिलती है. बस उन्ही कहानियों को मैं आपके समक्ष रख देता हूँ. आप भी इस वेबसाइट से जुड़ कर अपनी कहानी पब्लिश कर सकते है. Like us on Facebook.

You may also like...

1 Response

  1. Kajal singh says:

    बहुत अच्छा लगा आपकी स्टोरी
    मैं भी अपने पापा से बहुत प्यार करती हूं i love you papa

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *