तेरे जैसा यार कहाँ – Emotional Story on Friendship in Hindi

Story on Friendship in Hindi

दोस्तों, मेरा नाम रिषभ राणा है और मैं आपको अपनी रियल Story on Friendship in Hindi बताने जा रहा हूँ. कहानी सुनाने से पहले मैं अपने बारे में बता दू. मैं अपने मामा जी के साथ रहता हूँ क्यूंकि 2 साल पहले मेरी माँ की मृत्यु हो गयी थी. उन्हें कैंसर था. मामा जी ने अब तक मुझे बिलकुल अपने बेटे की तरह पाला है और मैं भी उनकी बहुत इज़्ज़त करता हूँ. मेरा एक बेस्ट फ्रेंड है जिसका नाम रोहित है, वो थोड़ा परेशान रहता है क्यूंकि उसके पिता को शराब की लत है. अपने पिता की शराब की आदत छुड़ाने के लिए रोहित ने बड़े जातां किये लेकिन असफल रहा. अब रोहित और उसके पिता की ज़्यादा बनती नहीं. रोहित के पिता की शराब की आदत की वजह से रोहित के घर की आर्थिक हालत भी ज़्यादा अच्छी नहीं लेकिन उसने कभी इसकी शिकायत नहीं की.

Story on Friendship in Hindi

Story on Friendship in Hindi

एक दिन सुबह 8:30 बजे का वक़्त था, मैं कॉलेज जाने के लिए तैयार हो रहा था. तभी रोहित का मुझे फ़ोन आया और उसने कहा “रिषभ माँ की तबियत खराब हो गयी है, जल्दी घर आ जाओ, माँ को हॉस्पिटल लेकर जाना है.”

ये सुनते ही मैं रोहित के घर की तरफ निकल गया और उसके घर जाकर देखा कि उसके पिता भी वही थे. मुझे बहुत बुरा लगा कि एक आदमी अपनी पत्नी की बुरी तबियत देखते हुए भी मदद नहीं कर रहा. मैंने और रोहित ने आंटी को उठाया और टैक्सी में बिठाया.

Story on Friendship in Hindi

हम हॉस्पिटल पहुंचे, आंटी के कुछ टेस्ट हुए और डॉक्टर हमारे पास आया. डॉक्टर ने रोहित को अपने पास बुलाया और कहा ” बीटा..तुम्हारी माँ के दिल में 3 ब्लॉकेज है, जल्द से जल्द स्टंट दाल कर उपचार करना पड़ेगा वरना दिल का दौरा आ सकता है.

जिन्हे नहीं पता उन्हें बता दू कि कई बार दिल की नाड़ी में कोलेस्ट्रॉल जमने से खून का प्रवाह कम हो जाता है जिससे दिल अच्छी तरह काम नहीं करता. दिल की नाड़ी में खून के प्रवाह को दुरस्त करने के लिए एक स्टंट डाला जाता है जिससे दिल की नाड़ियों में खून का प्रवाह अच्छे से हो सके.

Story on Friendship in Hindi

जब रोहित ने ये सुन तो पहले तो वो घबरा गया, फिर उसने डॉक्टर से पुछा कि इसका खर्चा कितना आएगा तो डॉक्टर ने कहा कि करीबन 1 लाख का खर्चा होगा. अब रोहित को ये चिंता थी कि वो एक लाख कहाँ से लाएगा. मैंने रोहित को शांत किया और बिठाया. मैंने रोहित को कहा कि अपने पिता से बात करे, वो ज़रूर मदद करेंगे लेकिन रोहित जानता था कि उसके पिता कोई ख़ास मदद नहीं करेंगे.

लेकिन आखिरकार मैं और रोहित घर गए उसके पिता से बात करने. मैंने रोहित के पिता को पूरी बात समझाई और उन्हें अपनी जिम्मेदारी का एहसास दिलाया. रोहित के पिता ने मुझे कहा “बेटा .. मेरे पास 40 – 50 हज़ार रुपये तो है लेकिन इससे ज़्यादा नहीं. तो मैंने उन्हें कहा कोई बात नहीं, आप 50 हज़ार का इंतज़ाम करे, बाकी मैं करने की कोशिश करता हूँ.

Story on Friendship in Hindi

मैंने रोहित को कहा कि वो अपनी माँ के पास जाए जो कि हॉस्पिटल में दाखिल थी. रोहित ने मुझे कहा “तुम बाकी के पैसो का इंतज़ाम कहा से करोगे?”

मैंने कहा कि देखता हूँ, कुछ ना कुछ तो करूँगा.

रोहित ने फिर पुछा “नहीं ऋषभ.. मुझे बताओ कि तुम इतने पैसो का इंतज़ाम कैसे करोगे?”

तो मैंने बताया कि मेरी माँ के कंगन पड़े है उन्हें बेच कर इतने पैसो का इंतज़ाम हो जाएगा. रोहित ने कहा “लेकिन..वो कंगन तो तुम्हारी माँ की आखिरी निशानी है..”

Story on Friendship in Hindi

मैंने रोहित से कहा “अरे यार.. अब माँ तो रही नहीं, और वैसे भी अगर मेरी माँ के कंगन बेच कर तेरी माँ की तबियत अच्छी हो जाए तो ये देख कर ऊपर से मेरी माँ खुश ही होगी. वैसे भी तेरी माँ मेरी माँ सामान ही तो है”

ये सुन कर रोहित इमोशनल हो गया और मुझे अपने गले से लगा लिया और कहा “यार… मैं ज़िन्दगी में किसी को याद रखू ना रखू पर तुझे कभी नहीं भूलूंगा.”

मैं भी इमोशनल सा हो कर रो दिया और उसे फ़ौरन उसकी माँ के पास भेज दिया.

डॉक्टर ने तुरंत रोहित की माँ का इलाज किया और अब वह बिलकुल स्वस्थ है. और मुझे गर्व है कि माँ के कंगन की वजह से रोहित की माँ अब बिलकुल ठीक है.

ये थी एक प्यारी सी Story on Friendship in Hindi. दोस्तों अगर ये कहानी आपको अच्छी लगी तो कमेंट में ज़रूर बताये.     

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

“ज़िन्दगी का कोई भरोसा नहीं” – Story about Life in Hindi

Respect Elders Story in Hindi – बड़ो की इज़्ज़त करना बहुत ज़रूरी है

जब मैं पाकिस्तान गया तो फर्क पता चला – India Pakistan Story in Hindi

अपने ही पति के मौत की रिपोर्टिंग एंकर द्वारा – Great Story in Hindi

बांझपन की कहानी – एक बच्चा भी ना दे पायी, इनफर्टिलिटी स्टोरी

किन्नर की दुनिया जन्म से मौत तक – Kinner Life & Death Story in Hindi

जब माँ को मेरे ड्रग्स का पता चला.. Drug Addiction Story in Hindi

मेरी ज़िन्दगी में 2 सबसे खूबसूरत लड़कियां – Emotional Kahani

पंचमढी की यात्रा – Travel Story in Hindi

मौत का मंज़र आँखों के सामने – Death Story in Hindi

जब बेटा चला माँ के प्यार का ऋण उतारने – Mother Story in Hindi with Moral

“मम्मी पापा, मुझे माफ़ कर देना” Emotional Suicide Story in Hindi

        

Aaisha Mukherjee

Hi, basically from Delhi, mujhe stories, especially love stories likhna aur read karna accha lagta hai. Main college me hu aur kabhi kabhi is website ke liye likhti hu. Agar aapko meri story acchi lage to comment me zarur bataye. Like us on Facebook

You may also like...

1 Response

  1. Shahbaz says:

    Bro i want buy this story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *