Motivational Story in Hindi for Life – ज़िन्दगी पर एक खूबसूरत मोटिवेशनल कहानी

आजकल के स्टूडेंट्स, युवा और खासकर जो प्राइवेट नौकरी करते है उन्हें मोटिवेशन की बहुत ज़रूरत है क्यूंकि अब ज़िन्दगी उतनी आसान नहीं. हर जगह आपको कड़ा Competition मिलेगा और हमने कई बार देखा है कि एक या दो failures के बाद कुछ लोग demotivate हो जाते है. ये Motivational Story in Hindi for Life हम खासकर ऐसे ही लोगों के लिए लाये है ताकि वे कभी ज़िन्दगी में निराश ना हो. ज़िन्दगी में सफलता पाने के लिए संघर्ष, अनुशासन और धैर्य की बहुत ज़रूरत है और ऐसी ही कहानी हम आपके लिए लेकर आये है जिसे पढ़ कर आपको खूब प्रेरणा मिलेगी.

दोस्तों, बाज़ यानी Eagle वो पक्षी है जिसकी बचपन से बड़ी मुश्किल ट्रेनिंग होती है. आमतौर पर पक्षियों के बच्चे पैदा होने के बाद कई दिन रोटी के लिए चिचियाते रहते है. कम से कम एक या दो महीने तक पक्षियों के बच्चे खाने के लिए अपनी माँ पर निर्भर होते है लेकिन बाज़ के बच्चों का बिलकुल उलट होता है.

Motivational Story in Hindi for Life

एक बाज़ का बच्चा जब पैदा होता है तभी से उसकी ट्रेनिंग शुरू हो जाती है और ये ट्रेनिंग बहुत मुश्किल होती है.

पैदा होने के महज़ कुछ ही दिनों बाद ट्रेनिंग का पहला पड़ाव शुरू हो जाता है जिसमे मादा बाज़ अपने बच्चे के लिए खाना लेकर आती है लेकिन वो खाना सीधा बच्चे के मुंह में नहीं डालती बल्कि अपने घोसले से कुछ दूरी पर खड़ी हो जाती है और खाना उतनी ही दूरी से उस चूज़े को दिखाती है. अब बच्चा भूखा होता है और उसे खाने की ज़रूरत होती है इसलिए चूज़े को अपना पूरा ज़ोर लगाकर संघर्ष करते हुए घोसले से बाहर निकलना पड़ता है. गिरते पड़ते उसे अपनी माँ की तरफ जाना पड़ता है जहाँ खाना पड़ा है. इस संघर्ष में वो चूज़ा ज़ख़्मी भी हो जाता है लेकिन मादा बाज़ का दिल नहीं पिघलता। वो तब तक घोंसले से दूर खड़ी रहती है जब तक चूज़ा उस तक नहीं पहुँच जाता.

Motivational Story in Hindi for Life

ट्रेनिंग के दुसरे पड़ाव में कुछ दिनों बाद मादा बाज़ अपने बच्चे को पंजो में दबाकर आसमान में 10 से 12 किलोमीटर ऊंचा ले जाती है और फिर इतनी ऊँचाई से चूज़े को फेंक देती है. ये उस चूज़े की सबसे कठिन परीक्षा होती है. जैसे ही मादा बाज़ अपने चूज़े को इतनी ऊँचाई से नीचे फेंकती है, बच्चा तो जैसे लोट पोट होते हुए नीचे गिरने लगता है. जब वह ज़मीन से करीब 1000 मीटर की दूरी पर होता है तो घबराहट में अपने पंख फ़ैलाने शुरू करता है लेकिन उड़ नहीं पाता और उसे एहसास हो जाता है कि अब वह मरने वाला है लेकिन तभी मादा बाज़ तेज़ी से उस चूज़े को हवा में ही अपने पंजो में दबाती है और सुरक्षित ज़मीन पर पटक देती है.

Motivational Story in Hindi for Life

मादा बाज़ ऐसा तब तक करती रहती है जब तक कि वो चूज़ा अच्छी तरह उड़ना ना सीख ले.

इस तरह एक बाज़ की बचपन में ट्रेनिंग शुरू होती है ताकि वह इस खतरों से भरी ज़िन्दगी में भी सबसे शक्तिशाली रहे. अपने इसी सख्त प्रशिक्षण की वजह से एक बाज़ अपने से दोगुने वजनी शिकार को भी उठा कर ले जा सकता है. बाज़ की इस ज़िन्दगी से हमें भी बहुत बड़ी सीख मिलती है.

दोस्तों, हम सभी अपने बच्चो को बहुत प्यार करते है लेकिन हमेशा याद रहे कि प्यार के साथ उन्हें ज़िन्दगी की मुश्किलों का सामना करना भी सिखाये ताकि वह अपना खुद का व्यक्तित्व बना सके और इस दुनिया को अपनी प्रतिभा भी दिखा सके.

Motivational Story in Hindi for Life

ये भी पढ़े:

अपने बच्चो को सिखाईये कि ज़िन्दगी में अपने लिए लड़ना कोई गलत बात नहीं। उन्हें बताये कि ज़िन्दगी का दूसरा नाम संघर्ष है और हर पड़ाव पर उन्हें कुछ हासिल करने के लिए संघर्ष करना ही पड़ेगा. अगर आप उन्हें सब कुछ थाली में परोस कर दे देंगे तो उन्हें मेहनत का मूल्य पता ही नहीं चलेगा जिस कारण वह ज़िन्दगी में आगे नहीं बढ़ पाएंगे.

अपने बच्चो को उड़ना सिखाईये लेकिन उनका मार्दर्शन भी करते रहिये। यकीनन आपको ये Motivational Story in Hindi for Life अच्छी लगी होगी और इसीलिए हमारी प्रार्थना है कि इस हिंदी कहानी को अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर ताकि हर कोई जो ये कहने पढ़े प्रेरणा अवश्य मिले.

Submit Your Story

Vineet

नमस्ते। मुझे नयी कहानियां लिखना और सुनना अच्छा लगता है. मैं भीड़-भाड़ से दूर एक शांत शहर धर्मशाला (H.P) में रहता हूँ जहाँ मुझे हर रोज़ नयी कहानियां देखने को मिलती है. बस उन्ही कहानियों को मैं आपके समक्ष रख देता हूँ. आप भी इस वेबसाइट से जुड़ कर अपनी कहानी पब्लिश कर सकते है. Like us on Facebook.

You may also like...