बहुत ही Funny Story in Hindi – ये Comedy Kahani पढ़ हंसी से लोट पोट हो जाओगे

Submitted by Kanu Aggarwal

दोस्तों, हम आपके लिए funny stories in Hindi लेकर आते रहते है और इस बार भी एक ऐसी Comedy Kahani खोज कर लाये है जिसे पढ़ आपकी हंसी नहीं रुकेगी. आपसे गुज़ारिश है कि इस फनी स्टोरी को अपने दोस्तों और परिवार के साथ शेयर ज़रूर करे.

funny kahani

एक शहर में एक बूढा किसान रहता था. हर साल की तरह इस बार भी वो किसान आलू की खेती करना चाहता था लेकिन उसका इकलौता बेटा किसी कारण से जेल में था. वो बूढा किसान अब कमज़ोर हो चूका था और इसलिए उसने खेत जोतने का फैसला छोड़ दिया.

उस बूढ़े किसान ने उदासी में अपने बेटे को जो कि जेल में था उसे खत लिखा. उसने खत में लिखा:

बेटा अशोक,

वैसे तो हर साल की तरह इस बार भी मैं खेत में आलू की खेती करना चाहता था लेकिन सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि खेत जोतेगा कौन क्यूंकि इस बार मेरी तबियत कुछ ठीक नहीं। डॉक्टर ने आराम करने के लिए कहा है और इसलिए मैंने फैसला किया है कि इस बार मैं खेती नहीं करूँगा. काश तुम यहाँ होते तो खेत जोतने में मेरी मदद कर सकते और हर साल की तरह इस बार भी हम मुनाफा कमा पाते. खैर, अब जब तुम जेल से वापिस आओगे तो ही खेती करूँगा.

तुम्हारी माँ की तबियत भी कुछ अच्छी नहीं रहती और मैं चाहता हूँ कि इस बार ज़्यादा से ज़्यादा समय उसके साथ बिता सकू. मुझे पता है कि अगर तुम यहाँ होते तो मेरी मदद ज़रूर करते। खैर, अपना ख्याल रखना, मैं आशा करता हूँ कि तुम जल्द से जल्द जेल से रिहा हो जाओ.

तुम्हारा पिता

दो दिनों बाद पिता को बेटे का खत आता है और उसमे सिर्फ ये लिखा था:

पिता जी,

भगवान के लिए खेत मत जोतना क्यूंकि खेत में कई बंदूके और बारूद गढ़ा पड़ा है.

जैसे ही पिता जी को बेटे का ये खत मिला, उसके कुछ मिनटों बाद पुलिस आ गयी और उन्होंने पूरा खेत खोद डाला लेकिन उन्हें वहां कुछ नहीं मिला.

अब पिता थोड़ा घबरा गया था और उसने अपने बेटे को जेल में एक और खत लिखा.

बेटा,

तुमने पहले खत में लिखा था कि खेत में बंदूके और बारूद गढ़ा है लेकिन वहां तो पुलिस को कुछ नहीं मिला, आखिर ये पूरा माजरा क्या है?

बेटे ने अपने पिता को खत के ज़रिये जवाब दिया:

पिता जी,

वो मैंने पुलिस वालो के साथ एक छोटा सा मज़ाक किया था. अब आपका खेत तो पुलिस वालो ने जोत ही दिया है, अब आलू की फसल आसानी से हो जायेगी. माफ़ कीजियेगा पिता जी, जेल में रहते हुए मैं आपकी इतनी ही मदद कर पाउँगा.

ये भी पढ़े:

दोस्तों, ये कहानी मैंने किसी अखबार में पढ़ी थी और मेरी हंसी पूरे 15 मिनट तक नहीं रुकी। आप भी इसे Facebook या Whatsapp पर इस फनी कहानी को शेयर कर दुसरो को हंसाये.

Submit Your Story

Vineet

नमस्ते। मुझे नयी कहानियां लिखना और सुनना अच्छा लगता है. मैं भीड़-भाड़ से दूर एक शांत शहर धर्मशाला (H.P) में रहता हूँ जहाँ मुझे हर रोज़ नयी कहानियां देखने को मिलती है. बस उन्ही कहानियों को मैं आपके समक्ष रख देता हूँ. आप भी इस वेबसाइट से जुड़ कर अपनी कहानी पब्लिश कर सकते है. Like us on Facebook.

You may also like...