माँ की ममता तो पिता का क्या ??…….Very Good Story in Hindi

Very Good Story in Hindi Submitted by Renuka Jain

रोहित अपने पिता के साथ बाज़ार में था. रोहित के पिता बाजार में घर के सामान की कुछ खरीददारी कर रहे थे. जब रोहित के पिता सब सामान लेकर अपना बिल देने लगे तो रोहित ने कहा “पापा एक चॉक्लेट भी ले लो”. उसके पिता ने दुकानदार को एक चॉकलेट देने को कहा. तभी रोहित ने पिता को फिर कहा “पापा…एक और चॉकलेट लेनी है…” उसके पिता ने हँसते हुए दोनों चॉकलेट रोहित को दे दी. रोहित के चेहरे की मुस्कान देख कर उसके पिता भी खुश हो रहे थे.

very good story in hindi

Very Good Story in Hindi

घर आते ही रोहित भागते हुए अपनी मम्मी के पास गया और कहा ” मम्मी…देखो आज मैं तुम्हारे लिए चॉकलेट लेकर आया हूँ”. रोहित ने एक चॉकलेट अपनी मम्मी को दी और एक चॉकलेट अपने पास रख ली. वो चॉकलेट उसकी मम्मी को भी अच्छी लगती थी इसलिए उसकी माँ भी खुश हो गयी. रोहित और उसकी माँ बहुत खुश लग रहे थे, रोहित की माँ ने उसे खूब प्यार किया और कहा “मेरा राजा बेटा मेरा कितना ख्याल रखता है.”

Very Good Story in Hindi

तभी रोहित की मम्मी ने अपने पति यानि की रोहित के पापा को टोकते हुए कहा “देखो … तुम्हारा बेटा जानता है कि मुझे क्या अच्छा लगता है लेकिन तुम्हे नहीं पता यार.”

रोहित के पिता ने अपना एक हाथ अपनी पैंट की दायिनी जेब में डाला हुआ था क्यूंकि एक चॉकलेट अलग से वो रोहित की मम्मी के लिए भी लाये थे. लेकिन उन्होंने चॉकलेट निकाली नहीं क्यूंकि वो रोहित और उसकी माँ के प्यार को वहां खड़े महसूस कर रहे थे और उन्हें ये देख कर बड़ा सकून मिल रहा था.

Very Good Story in Hindi

ऐसा अक्सर हम अपने घर में देखते है. बच्चे का लगाव और प्यार ज़्यादातर माँ के प्रति होता है. पिता अपने काम काज और परिवार की ज़रूरतों को पूरा करने में लगा होता है और इसीलिए वो अपने बच्चो को ज़्यादा वक़्त नहीं दे पाता लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि वो अपने परिवार से प्यार नहीं करता.

पिता ज़्यादातर अपने प्यार को जताते नहीं है और माँ हर वक़्त अपने बच्चो को प्यार देती है.

Very Good Story in Hindi

किसी ने बिलकुल सही कहा है कि माँ तो 9 महीने बच्चे को अपने पेट में रखती है लेकिन एक पिता पूरी उम्र अपने बच्चो का ख्याल अपने दिमाग में रखता है. पिता कभी ये नहीं जताता कि वो अपने बच्चो से कितना प्यार करता है लेकिन पूरी उम्र अपने बच्चो की ख्वाहिशे और जिद को पूरी करने की कोशिश करता है. हमारे समाज में माँ की ममता के तो बहुत तारीफे होती है और होनी भी चाहिए लेकिन पिता के बलिदान और प्यार को भी अगर थोड़ी तवज़्ज़ो मिल जाए तो क्या बात.

good story in hindi with moral

Friends, we hope ki aapko ye Very Good Story in Hindi pyari lagi hogi, hame comments me zarur bataye aur share zarur kare.

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

अपने ही पति के मौत की रिपोर्टिंग एंकर द्वारा – Great Story in Hindi

बांझपन की कहानी – एक बच्चा भी ना दे पायी, इनफर्टिलिटी स्टोरी

किन्नर की दुनिया जन्म से मौत तक – Kinner Life & Death Story in Hindi

जब माँ को मेरे ड्रग्स का पता चला.. Drug Addiction Story in Hindi

मेरी ज़िन्दगी में 2 सबसे खूबसूरत लड़कियां – Emotional Kahani

पंचमढी की यात्रा – Travel Story in Hindi

मौत का मंज़र आँखों के सामने – Death Story in Hindi

जब बेटा चला माँ के प्यार का ऋण उतारने – Mother Story in Hindi with Moral

“मम्मी पापा, मुझे माफ़ कर देना” Emotional Suicide Story in Hindi

काश एक ओर ज़िन्दगी मिल जाये – HIV Story in Hindi

Aaisha Mukherjee

Hi, basically from Delhi, mujhe stories, especially love stories likhna aur read karna accha lagta hai. Main college me hu aur kabhi kabhi is website ke liye likhti hu. Agar aapko meri story acchi lage to comment me zarur bataye. Like us on Facebook

You may also like...

2 Responses

  1. Suman says:

    Sach me pita ke baare me bahut kam socha jaata hai but Dads are great.

  2. Kundan says:

    Aapki website par maine kai stories padhi hai aur ye sabse alag aur acchi hai. Aapne story writing ko ek alag level par le kar gaye ho, bahut acha.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *