एक प्यारी सी रक्षाबंधन पर कहानी – Beautiful Hindi Story on Rakshabandhan

“अरे भाई आप इस बार भी रक्षाबंधन पर घर नहीं आओगे?” रेनू ने अपने भाई रोहित से फ़ोन पर पुछा

रोहित दिल्ली में रहता है और रेनू मम्मी पापा के साथ कानपूर में रहती है.

“नहीं रेनू, इस बार भी छुट्टी मिलनी बहुत मुश्किल है” रोहित ने ऑफिस में बैठे बैठे दबी हुई आवाज़ में रेनू को फ़ोन पर कहा

Rakshabandhan par Kahani

“अरे, क्या भईया ये तो बड़ी गलत बात है, आप पछली बार भी रक्षाबंधन पर घर नहीं आये थे और इस बार भी…. ” रेनू ने कहा

“अब क्या करू रेनू, काम भी तो ज़रूरी है, तुझे तो पता है प्राइवेट नौकरी का… ” रोहित ने जवाब दिया

“अच्छा ठीक है भाई, मैंने राखी कूरियर से भेज दी है, कल परसो तक आपको मिल जायेगी पर कितना अच्छा होता कि मैं खुद आपको राखी बांधती. हमें कितना मज़ा आता घर पर” रेनू ने फिर कहा

“अच्छा रेनू, अब मैं फ़ोन रखता हूँ, मुझे काम करना है, जब राखी आएगी तो मैं खुद बाँध लूंगा, बाय” दबी हुई आवाज़ में रेनू को जवाब देते हुए रोहित ने फ़ोन काट दिया.

रक्षाबंधन के दिन रेनू फ़ोन करती है रोहित को:

“भाई, वो मैंने जो राखी कूरियर करवाई थी वो मिल गयी ना, मुझे कलाई पर राखी बाँध कर फोटो भेजो” रेनू ने फ़ोन पर कहा   

“नहीं रेनू, राखी तो मुझे मिली ही नहीं, तुमने शायद गलत एड्रेस दे दिया होगा” रोहित ने फ़ोन पर कहा

 “क्या….ऐसा कैसे हो सकता है, मैंने तो एक हफ्ते पहले ही कूरियर करवा दी थी, मुझे माफ़ कर दो भाई” रेनू ने मायूसी भरी आवाज़ में कहा

तभी दरवाज़े की घंटी बजती है और कूरियर वाला वही लिफाफा लिए खड़ा था जिस लिफाफे में रेनू ने रोहित को राखी भेजी थी.

“अरे….क्या हुआ भईया, आपने राखी डिलीवर क्यों नहीं की, मैं आपकी शिकायत करुँगी, मैंने साफ़ साफ़ एड्रेस लिखा था लेकिन फिर भी आपने डिलीवर नहीं की…अब मेरा भाई राखी कैसे बांधेगा ?” रेनू ने गुस्से में कूरियर वाले को कहा

“नहीं मैडम, आपकी राखी डिलीवर हो गयी है…..” कूरियर वाले ने इतना कहा और फट से भाग गया.

Read Similar Stories:

रक्षाबंधन का पर्व – रक्षाबंधन पर कहानी जो हर भारतीय को पढ़नी चाहिए
रक्षाबंधन त्यौहार की इतिहासिक कहानी – History of Raksha Bandhan in Hindi

कूरियर वाले के जाते ही रेनू देखती है कि रोहित सामने खड़ा था…..

“राखी तो मैं बाँधोगे और वो भी तुम बांधोगी मुझे” रोहित ने हँसते हुए कहा

रोहित को देख रेनू ख़ुशी से उसे गले लगा लेती है, ख़ुशी से उसकी आँखों से आंसू निकल पड़े

रेनू रोहित को राखी बांधती है, रोहित कहता है “बता रेनू तुझे क्या गिफ्ट चाहिए?”

rakshabandhan story

Rakshabandhan par Kahani

“आप राखी के लिए यहाँ आ गए, मेरे लिए यही गिफ्ट काफी है” रेनू अपने भाई  रोहित अपने बैग से रेनू के लिए सैमसंग का फ़ोन निकालता है और उसे गिफ्ट देता है, रेनू ख़ुशी से रोहित को गले लगाती है और उस दिन पूरा परिवार एक साथ रक्षाबंधन सेलिब्रेट करता है.

You may also like...

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते