Category: Army ki Kahaniya

story about military training hindi 0

जब मिलिट्री ट्रेनिंग के दौरान कैडेट की मौत हो गयी – Military Walo ki Training

18 अगस्त 2017 को इंडियन मिलिट्री अकाडेमी में एक ऐसा हादसा हुआ जिसने पूरे देश को रुला दिया. दीपक शर्मा जो कि 22 साल का था, मिलिट्री ट्रेनिंग के दौरान उसकी किसी वजह से...

army story in hindi 0

मेजर नवनीत और शिवानी की लव स्टोरी – Indian Army Love Story in Hindi

मेजर नवनीत वत्स ने करीबन 15 साल पहले अपनी शहादत को चूमा था लेकिन उनकी प्रेम कहानी आज भी ज़िंदा है। Vineetनमस्ते। मुझे नयी कहानियां लिखना और सुनना अच्छा लगता है. मैं भीड़-भाड़ से...

0

एक फौजी की बेटी होना कैसा अनुभव है, सुनिए अर्शदीप कौर की ज़ुबानी।

मैं राजस्थान से हूँ और मेरे पिता आर्मी में मेजर है. मेरे परिवार में ज़्यादातर लोग आर्मी में है और थे. मेरे दादा जी, पिता जी और अब मेरा भाई भी आर्मी में है....

army story in hindi 0

जब मेरे फौजी पति के जूनियर ने मुझे सैल्यूट किया – आर्मी स्टोरी

Army Real Story in Hindi मेरा नाम रश्मि है और मेरे पति इंडियन आर्मी में मेजर है. ये बात 2017 की है जब मेरे पति की पोस्टिंग गुजरात में थी. कुछ दिनों के लिए...

army walo ki kahani 0

रोमांच, हिम्मत और बलिदान से भरी मेजर सुधीर वालिया की एक आर्मी स्टोरी

Indian Army Soldier Story in Hindi कारगिल युद्ध के दौरान मेजर सुधीर वालिया ने आर्मी चीफ को चिट्ठी लिखी कि उन्हें बॉर्डर पर जाने की अनुमति दी जाये. उनकी आप्लिकेशन मंजूर कर ली गयी...

चार बहनो का इतलौता भाई जब शहीद हुआ – Indian Army Kahani Emotional

18 नवंबर 2018 का दिन था जब कमांडो ज्योति प्रकाश निराला जम्मू कश्मीर में आतंकियों से मुठभेड़ कर रहे थे. चारो तरफ गोलियां चल रही थी और अपनी जान की परवाह…

bravery story in hindi 1

देखिये पाकिस्तान आर्मी द्वारा पकडे जाने पर अभिनन्दन ने क्या किया – Bravery Story in Hindi

जैसे ही अभिनन्दन पाकिस्तान की धरती पर गिरे तो उन्हें एहसास हुआ कि उनकी पीठ की हड्डी टूट चुकी है…

शहीद की कहानी 0

बेटी का जन्म दिन मना कर ड्यूटी पर आया था….. शहीद की कहानी

मनोज दिसंबर 2018 में छुट्टियों पर घर आया हुआ था और 16 जनवरी को ही उन्होंने अपनी बेटी का पहला जन्म दिन भी मनाया था. उस दिन वे लोग बहुत खुश थे लेकिन उन्हें क्या पता था कि उनके घर का चिराग इतनी जल्दी उन्हें छोड़ किसी और दुनिया में चला जाएगा. मनोज 6 फरवरी को अपनी ड्यूटी के लिए निकला था और 14 फरवरी को ही ये हमला हो गया.

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते