Category: Short Stories

Society Hindi Kahani

कोई भूख के लिए खाता है तो कोई सेल्फी के लिए – Hindi Kahani on Modern Society

एक दिन शाम के वक़्त मैं उसी कैफ़े में गया और कैफ़े के बाहर एक टेबल पर बैठ कर कॉफ़ी पीते पीते कुछ सोच रहा था कि कही से 2 लड़का और लड़की मेरे पास आये और पैसे मांगने लगे. देख कर लग रहा था कि वो दोनों….

ज़िन्दगी आसान नहीं साहब ! विदेश पहुँचने के बाद मेरा अब तक का अनुभव, भाग 2

रात के लगभग 9 बज रहे थे। मै टैक्सी में बैठ कर ना जाने किस दिशा में चला जा रहा था। रियाद शहर मीलों पीछे निकल चुका था। मन में नकारात्मक विचार जन्म ले रहे थे। फिर कुछ समय के बाद टैक्सी की गति कम हुई और एक बड़े

videsh yatra ka anubhav

यूँ तो सब सुख है बरसे पर दूर तू है घर से – भारत से विदेश तक का मेरा अनुभव, भाग 1

आज मैं सऊदी अरब जा रहा हुं।आधुनिक जीवन की मूलभूत आश्यकताओं को पूरा करने की गरज से मैं पहली बार अपने देश से किसी दूसरे देश प्रवास करने जा रहा था। दिल्ली का आईजीआई एयरपोर्ट जो अपनी कड़ी सुरक्षा निति विशेषताओं के लिए प्रसिद्ध है।

Bacha Bazi in Afghanistan

Bacha Bazi in Afghanistan – अफगान की ये घिनौनी परंपरा जान रौंगटे खड़े हो जाएंगे

हम आपको जो बताने जा रहे है वो जान कर शायद आपको थोड़ा अजीब लगे या शायद आपको ये झूठ लगे लेकिन ये कहानी बिलकुल सच है और पूरी हिम्मत के साथ आपको ज़रूर पढ़नी चाहिए….

father son story in hindi

पिता की डांट और सिखाई आदतें कभी व्यर्थ नहीं जाती – Father Son Story in Hindi

नितिन एक मिडिल क्लास फॅमिली से था. वह परिवार का अकेला बेटा था इसलिए उसे बचपन से ही अपने माँ बाप का खूब प्यार मिला था. वो जिस चीज़ पर भी ऊँगली करता उसे वो चीज़ मिल जाती और शायद इस वजह से उसकी आदतें थोड़ा खराब हो रही थी, वो ज़िद्दी हो गया था, बात बात पर रूठ जाता था. ….

humanity story in hindi 4

इंसानियत पर कहानी – इस दुनिया में अच्छे लोग भी होते है, इमोशनल कहानी

दोस्तों, ये कहानी हमें बताती है कि भगवान पर विश्वास रखे लेकिन उससे पहले खुद पर भी विश्वास रखे. आज के युग में अच्छे इंसान भी होते है और चमत्कार भी होते है !

sachi kahani

इमोशनल सच्ची कहानी – खुशियों का कोई सौदा नहीं होता Emotional Sachi Kahani

मेरा नाम सुधा ठाकुर है और मैं कानपूर में रहती हूँ. मैं एक कास्मेटिक की दुकान चलती हूँ. मेरे पति ने ये दुकान शुरू की थी लेकिन 4 साल पहले उनका देहांत हो गया था…..

Relationship Story in hindi 1

घर में बर्तन है तो आवाज़ आएगी ही – Relationship Story in Hindi

हर्षित ने कहा “मैं अब तुम्हारे साथ एक पल भी नहीं रहना चाहता”. गुंजन भी गुस्से में थी, वो भी बोल पड़ी “ठीक है, मैं भी इतने झगड़ालू पति के साथ नहीं रह सकती, जा रही हूँ मैं मायके”.

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते