“इंसानियत सबसे पहले” – Story on Humanity in Hindi

Story on Humanity in Hindi

दोपहर 2 बजे का वक़्त था. एक पिता और उसका 8 साल का बेटा सड़क पर पैदल जा रहे थे. पिता अपने बच्चे को स्कूल से लेकर आ रहा था.

story on humanity in hindi

पिता: बेटा, आज स्कूल में इंग्लिश का टेस्ट था तुम्हारा… कैसा हुआ?

 

बेटा: ठीक हुआ..

 

पिता: और मैडम ने क्या करवाया आज?

 

बेटा: आज नैतिक शिक्षा (Moral Education) का पीरियड था और मैडम ने हमें कहा कि हमेशा दुसरो की मदद करनी चाहिए चाहे कैसी भी परिस्थिति हो. और मैडम ने बच्चो को कहा है कि घर जा कर किसी ना किसी व्यक्ति की सहायता ज़रूर करना और बताना बताना कि तुमने किसकी सहायता की.

Insaniyat Par Kahani

पिता: ठीक है, मैं तुम्हारा होमवर्क कर दूंगा. अब कहाँ करेंगे किसी की सहायता…

 

बारिश का मौसम था और कुछ ही देर में बारिश होने लगी….

 

पिता के पास दो छाते थे. पिता ने एक छोटा छाता बच्चे को दिया और बड़ा सा छाता खुद इस्तेमाल करने लगा. दोनों बाप बेटा बारिश का मज़ा लेते हुए चल दिए.

Story on Humanity in Hindi

तभी बेटे ने देखा कि सड़क के किनारे एक कुत्ते का बच्चा बैठा हुआ है. भीगने के कारण उसे ठण्ड लग रही थी और वो कांप रहा था. बेटा भाग कर उस कुत्ते के बच्चे के पास जाता है और अपना छाता उसके सर पर रख देता है. पिता अपने बेटे को ये देखते हुए डांटता है और कहता है कि “बेटा …..तुम भीग जाओगे और बीमार पढ जाओगे लेकिन बेटा नहीं मानता और अपना छाता उस कुत्ते के बच्चे के सर पर तब तक रखे रखता है जब तक कि बारिश नहीं रुक गयी.

 

बारिश रुकने पर बच्चा अपना छाता उस कुत्ते के सर से हटाता है और अपने पिता को बोलता है “पापा .. मैडम ने जो होमवर्क दिया था मैंने कर लिया। इतना कहकर बेटा फिर अपने पिता को कहता है कि ये कुत्ता अगर यूँ ही सड़क पर रहा तो मर जाएगा, क्या मैं इसे घर ले जा सकता हूँ?

Story on Humanity in Hindi

अपने बेटे का नरम दिल, जानवरो के प्रति प्यार और इंसानियत भरा हृदय देख कर बाप का दिल पिघल जाता है और कहता है ” क्यों नहीं.. हम इसे घर ले जाएंगे और रोज़ इसके साथ खेलेंगे”

insaniyat par kahani

 

दोस्तों, आज के वक़्त में ऐसी इंसानियत की मिसाल बहुत कम देखने को मिलती है. दरअसल इंसान के अस्तित्व का मुख्य लक्ष्य तो यही है कि इंसानियत की रक्षा करना और अगर हम ये भी ना कर पाए तो कौन हमें इंसान कहेगा. कुदरत के बनाये हुए हर जीव पर दया करने सीखिए क्यूंकि यही सच्चा धर्म है.

 

अपने ज़ख्म पर तो जानवर भी रोता है, इंसान तो वो है जो दुसरो का दर्द महसूस कर सके.

अगर आपको ये इंसानियत पर कहानी अच्छी लगी तो इसे शेयर करना ना भूले। अगर आपके पास भी Story on Humanity in Hindi हो तो हमें भेजे।

 

धन्यवाद

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

कोई मुझसे पूछे गरीबी क्या है – Short Story on Poverty in Hindi
क्या पैसो से ख़ुशी खरीदी जा सकती है? Short Story on Happiness in Hindi
Facebook Par Love Story – Har Ladke ke Liye Zaruri Sabak
पिता और बेटे की इमोशनल कहानी – Father Son Story in Hindi
एक अच्छे इंसान की कहानी – Good Man Story in Hindi
हमेशा जो दिखाई देता है, वो सच नहीं होता – Story on Moral Values in Hindi
मेरी Internet Love Story in Hindi – Submitted by Ritika Sharma
एक फौजी की बेटी होना कैसा अनुभव है, सुनिए अर्शदीप कौर की ज़ुबानी।
पत्नी को जब रंगे हाथ पकड़ा – Extra Marital Affair Story in Hindi
Men Will be Men – A Cool Story in Hindi
कागज़ी मोहबत – Love Story in Hindi Heart Touching

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते