My First Karva Chauth Story in Hindi – सुनिए एक फौजी की पत्नी की जुबानी

Karva Chauth Story in Hindi

Karva Chauth Story in Hindi

मेरा नाम रूही है और मैं आपको अपने पहले करवा चौथ की कहानी सुनाने जा रही हूँ. मेरे पति आर्मी में है और उन्होंने एक हफ्ते पहले ही मुझे फ़ोन करके बोल दिया था कि इस बार करवा चौथ पर छुट्टी नहीं मिलेगी.

 

करवा चौथ के एक दिन पहले मेरी सासु माँ ने सरगी का सामान दिया था जिसमे से कुछ खाने की चीज़े मैंने सुबह सुबह खा ली ताकि पूरे दिन खाली पेट शरीर को थोड़ा शक्ति मिलती रहे. करवा चौथ के दिन मेरा मूड अच्छा नहीं था क्यूंकि मेरे पति ही मेरे साथ नहीं थे.

 

शाम के वक्त मैं और मेरी सासु माँ पास के घर में कर्वे पूजा के लिए गए. जब हम पूजा के लिए आ रहे थे तो मेरा फ़ोन बजा और मैंने देखा कि मेरे पति का फ़ोन आया था. जब मैंने फ़ोन उठाया तो मेरे पति ने मुझसे पुछा कि चाय पी ली है तो मैंने कहा कि अभी नहीं थोड़ी देर तक पियूँगी.

Karva Chauth Story in Hindi

अभी मैं और मेरे पति बात ही कर रहे थे कि तभी मुझे उनके फ़ोन से किसी के चीखने की आवाज़ आयी. मैंने तुरंत अपने पति से पुछा कि ये पीछे कैसी आवाज़ आ रही है तो पति ने हड़बड़ाहट में कहा कि “सुनो… मैं फ़ोन रखता हूँ थोड़ी देर में करूँगा..” बस ये कहकर मेरे पति ने फ़ोन काट दिया।

 

मैं तो जैसे घबरा गयी. मेरे मन में बुरे ख्याल आने लगे थे. चूँकि मेरे पति ड्यूटी पर थे मैं सोच रही थी कि कही आतंकियों के साथ मुठभेड़ ना हो गयी हो. अब मेरा मन घबरा रहा था. मैंने सासु माँ को कुछ नहीं बताया, बस अपने पति के फ़ोन का इंतज़ार करने लगी.

 

मैं सेहमी हुई सी घर की रसोई में चाय बना रही थी कि तभी मेरे पति का फ़ोन आया. मैंने फ़ोन उठाते ही कई प्रश्न पूछ डाले… “क्या हुआ??, वो आवाज़ कैसी थी??, आप ठीक तो हो??.

Karva Chauth Story in Hindi

मेरे पति ने कोई जवाब नहीं दिया। फ़ोन के पीछे सिर्फ ख़ामोशी थी. मेरा दिल देहल गया.

 

तभी फ़ोन में आवाज़ आयी… “पीछे देखो”

 

मैं कुछ समझ नहीं पायी, मैंने फिर पुछा “अरे क्या हुआ?”

 

मेरे पति रसोई में मेरे पीछे खड़े थे और उन्होंने फिर कहा “पीछे देखो”

 

मैंने जब अपने पति को अपने पास देखा तो इतना ज़ोर से उन्हें गले लगाया कि पूछिए मत. वो मेरी ज़िन्दगी का सबसे ख़ुशी का पल था.

मैंने अपने पति से पुछा कि फ़ोन में वो अजीब से आवाज़ कैसी थी तो उन्होंने बताया कि बस स्टैंड से घर आते हुए किसी चोर ने एक आदमी का पर्स चुरा लिया था और जब मैंने देखा तो उसे पकड़ने भाग निकला. ये सुनकर मैंने अपने पति को गुस्से में कहा “कभी तो ड्यूटी छोड़ दिया करो, मैं तो डर ही गयी थी”. ये सुन मेरे पति ने कहा कि एक फौजी की ड्यूटी कभी ख़त्म नहीं होती और ये सुनकर मुझे उन पर बहुत गर्व हुआ.

Karva Chauth Story in Hindi

मेरे पति को तो करवा चौथ के दिन छुट्टी मिल गयी लेकिन हज़ारो लाखों फौजियों को छुट्टी नहीं मिलती. ये लोग त्योहारों के दिन भी अपने देश की रक्षा करते है जो कि बहुत सराहनीय बात है.

 

जब मैं रात को अपने पति के साथ व्रत खोल रही थी तो मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था. मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं दुनिया की सबसे खुशकिस्मत लड़की हूँ.

दोस्तों, अगर आपकी भी कोई दिलचस्प करवाचौथ की कहानी है (Karva Chauth Story in Hindi) तो हमारे साथ शेयर ज़रूर करे.

धन्यवाद

Submitted by Roohi Ranaut

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

कोई मुझसे पूछे गरीबी क्या है – Short Story on Poverty in Hindi
क्या पैसो से ख़ुशी खरीदी जा सकती है? Short Story on Happiness in Hindi
Facebook Par Love Story – Har Ladke ke Liye Zaruri Sabak
पिता और बेटे की इमोशनल कहानी – Father Son Story in Hindi

जब मिलिट्री ट्रेनिंग के दौरान कैडेट की मौत हो गयी – Military Walo ki Training
मेजर नवनीत और शिवानी की लव स्टोरी – Indian Army Love Story in Hindi
एक फौजी की बेटी होना कैसा अनुभव है, सुनिए अर्शदीप कौर की ज़ुबानी।
रोमांच, हिम्मत और बलिदान से भरी मेजर सुधीर वालिया की एक आर्मी स्टोरी

 

You may also like...

3 Responses

  1. shkil says:

    Sach men ANSI nikal di aap

  2. शायरी हिन्द .कॉम says:

    आपकी कहानी बहुत अच्छी है, मुझे आपका कहानी पढ़ना बहुत अच्छा लगता है| इतने अच्छे कहानी हमारे साथ साझा करने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यबाद

  3. Paresh says:

    Romantic love story- Real Love story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते