मेजर नवनीत और शिवानी की लव स्टोरी – Indian Army Love Story in Hindi

मेजर नवनीत वत्स ने करीबन 15 साल पहले अपनी शहादत को चूमा था लेकिन उनकी प्रेम कहानी आज भी ज़िंदा है।

Indian Army Love Story in Hindi

साल 1994 में शिवानी की मुलाकात नवनीत वत्स  से चंडीगढ़ में किसी दोस्त के ज़रिये हुई थी. एक दूसरे को पहली नज़र में देखते ही दोनों में कुछ अनकही बातें हो गयी थी. उस दिन के बाद दोनों की मुलाकात ज़्यादा तो नहीं हुई लेकिन जब भी हुई तो दोनों ने एक दूसरे के प्रति प्यार दिखता था.

 

साल 1998 में शिवानी अपने घर चंडीगढ़ में थी, तभी दरवाज़े पर दस्तक हुई और जब शिवानी ने दरवाज़ा खोला तो देखा कि नवनीत जो अब मेजर नवनीत बन चूका था, दरवाज़े पर एक बड़ा सा बैग लेकर खड़ा था. नवनीत को कुछ दिनों की छुट्टी मिली थी और घर जाने की बजाये वो सीधे शिवानी के घर चले गए.

Indian Army Love Story in Hindi

दरवाज़े पर खड़े खड़े ही नवनीत ने शिवानी को शादी के लिए प्रोपोज़ किया और शिवानी ने भी हाँ कर दी, जैसे उन दोनों को पता था कि वे अपनी ज़िन्दगी एक दूसरे के साथ ही बिताना चाहते है.

जब मिलिट्री ट्रेनिंग के दौरान कैडेट की मौत हो गयी – Military Walo ki Training

आपको तो पता है कि आर्मी वालो को छुट्टी की बहुत कमी रहती है इसलिए बिना वक़्त गवाए दोजनो ने आर्य समाज मंदिर में 24 अगस्त 1998 को शादी कर ली.

Indian Army Love Story in Hindi

शादी के बाद जब नवनीत शिवानी को अपने गोरखा राइफल्स के यूनिट में लेकर गया तो उसके कमांडिंग अफसर ने उससे पुछा “शादी करके लाये हो या भगाकर?” ये सुन दोनों शिवानी और नवनीत बहुत हँसे। शिवानी और नवनीत अपनी ज़िन्दगी से बहुत खुश थे.

20 नवंबर 2003 में कुछ आतंकियों ने Srinagar Telecom Building पर हमला कर दिया और मेजर नवनीत की पोस्टिंग भी वही थी.

हमले की खबर सुनते ही मेजर नवनीत वत्स को फ़ौरन आतंकियों को खदेड़ने के लिए भेजा गया. उन्होंने बहुत साहस के साथ लड़ते हुए आतंकियों का सामना किया लेकिन इस मुठभेड़ में मेजर नवनीत शहीद हो गए.

Indian Army Love Story in Hindi

जब शिवानी को मेजर वत्स की शहादत की खबर मिली तो वो टूट गयी लेकिन फिर उन्हें मेजर नवनीत की कही हुई बात याद आयी. मेजर नवनीत ने शिवानी को कह रखा था कि “अगर मुझे कुछ हो गया तो रोना धोना नहीं होगा घर में, तुम एक आर्मी अफसर की पत्नी हो और तुम्हे हर परिस्थिति का बहादुरी से सामना करना है” .

बहरहाल, मेजर नवनीत के जाने के बाद शिवानी ने आर्मी पब्लिक स्कूल में टीचर की पोस्ट के लिए अप्लाई किया और जल्द ही उनकी नौकरी भी लग गयी. अब शिवानी पूरी मेहनत से आर्मी स्कूल के बच्चो को पढ़ाती है ताकि भविष्य में वे भी देश की सेवा कर सके. अब शिवानी APS Chandimandir school में पढ़ाती है और अपने पति को दिए हुए वायदे के मुताबिक खुश है.

Indian Army Love Story in Hindi

शिवानी जैसी साहसी लड़की और मेजर नवनीत जैसे वीर को हमारा दिल से सलूट है।

जय हिन्द

अपनी स्टोरी सबमिट करे

ये भी पढ़े:

यह Indian Army Love Story in Hindi आपको कैसी लगी हमें जरूर बताएं.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते