Doraemon की ये कहानी सुन रोना आ जाएगा – Death of Doraemon in Hindi

मैंने कई बार लोगों को पूछते देखा है कि kya doraemon mar chuka hai या kya doraemon sach mein mar gaya तो मेरा उनको सिर्फ यही जवाब होता है कि Doreamon मरा नहीं, वो अभी भी ज़िंदा है और जानने के लिए आपको ये doraemon nobita real story in hindi ज़रूर पढ़नी चाहिए.

Doraemon Real Death Story in Hindi

एक दिन Nobita अपने स्कूल से घर आता है. हमेशा की तरह इस बार भी वो Gian से पिट कर आता है. अपने घर में आते ही वो Doreamon के पास जाता है  ताकि वो Gian से बदला ले सके लेकिन जैसे ही वो कमरे में अंदर आता है, वो देखता है की Doreamon ज़मीन पर गिरा पड़ा है. Nobita Doreamon को बहुत उठाने की कोशिश करता है लेकिन वो नहीं उठता.

doraemon real death story in hindi

Death of Doraemon in Hindi

आखिरकार नोबिता अपना time television निकालता है और Doraemi (जो कि Doreamon की बहिन है ) को बुलाता है. Doraemi उसे अच्छी तरह देखती है और फिर नोबिता को समझती है कि Doreamon की बैटरी पूरी तरह से खराब हो चुकी है और इसलिए अब Doreamon कभी नहीं उठेगा. इतना सुनते ही नोबिता ज़ोर ज़ोर से रोने लगता है. Doraemi फिर नोबिता को समझती है कि Doreamon ठीक हो सकता है अगर कोई robotic इंजीनियर फिर से Doreamon की बैटरी बना दे.

Real Story of Doraemon Death in Hindi

इतना सुन कर नोबिता चुप हो जाता है और अब वो पूरे दिल से पढाई करने लगता है. अब वो एक अच्छा रोबोटिक इंजीनियर बनना चाहता है ताकि भविष्य में Doreamon की नयी बैटरी बना सके.

Doraemon Real Death Story in Hindi

इसी तरह कई साल गुज़र जाते है. अब नोबिता और उसके सभी दोस्त बड़े हो चुके है और नोबिता ने भी अपनी पढाई पूरी कर ली है. अपने कॉलेज के आखिरी दिन नोबिता शिजुका को शादी के लिए प्रोपोज़ करता है लेकिन Shizuka उससे कुछ वक्त मांगती है इस पर सोचने के लिए.

doraemon real life story in hindi

अब Gian एक अमीर businessman बन चूका है नोबिता के सारे दोस्त अच्छी नौकरी कर रहे है लेकिन नोबिता अभी भी अपनी शोध में व्यस्त है. वह अपना ज़्यादातर वक्त Doreamon की बैटरी बनाने पर लगाता है क्यूंकि किसी भी हालत में वह Doreamon को वापिस पाना चाहता है.

Real Story of Doraemon Death in Hindi

नोबिता अभी भी वैसा ही चंचल स्वभाव का है और शिजुका भी उसे पसंद करती है. एक रात को शिजुका अपने माँ बाप के पास जाती है (जो कि अब काफी बूढ़े हो चुके है) और उन्हें बताती है कि नोबिता उससे शादी करना चाहता है. इतना सुनते ही शिजुका के पिता कहते है कि “बेटी शिजुका से ज़्यादा नेक और साफ़ दिल का व्यक्ति तुम्हे कही और नहीं मिलेगा, इसलिए तुम उससे शादी कर लो “. इतना सुनते ही शिजुका बहुत खुश होती है और नोबिता को फ़ौरन शादी के लिए हां कर देती है.

 

कुछ ही दिनों में नोबिता और शिजुका की शादी हो जाती है और वो दोनों अपनी ज़िन्दगी में बहुत ख़ुशी से रहने लगते है. शादी के कुछ दिन बाद शाम के वक्त Shizuka नोबिता को कॉफ़ी देने के लिए कमरे में आती है और देखती है कि Nobita कुछ repair कर रहा है. तभी नोबिता चिल्लाता है “मैंने कर दिखाया, मैंने कर दिखाया”

 

तभी Doreamon उठता है और उठते ही नोबिता को कहता है ” तुमने अपना homework किया या नहीं?”

Doraemon Nobita Story in Hindi

ये देखते ही नोबिता और शिजुका के आँखों से आंसू झलक पड़ते है और वो दोनों Doreamon को बहुत tight hug करते है. और फिर नोबिता Doreamon को सब कुछ समझाता है कि उसके साथ क्या हुआ था.

real story of doraemon death in hindi

 

इस कहानी के अंत में नोबिता और शिजुका अपनी जॉब पर जाते है और Doreamon इन दोनों के बच्चे को संभालता है. नोबिता और शिजुका के बच्चे का नाम है Nobisuke जो कि एक प्यारा सा लड़का है. अब Doreamon और Nobisuke अच्छे दोस्त है और Doreamon वो सब कुछ करता है जो Nobisuke उसे कहता है.

ये थी Real Story of Doraemon Death in Hindi, इस कहानी को ज़्यादा से ज़्यादा शेयर ज़रूर करे.

You may also like...

1 Response

  1. Sohakhan says:

    Doraemon ke pass jana he ?
    Usko milna he?
    Mujhe bhi doraemon jaisa freind chahiye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते