एक सफल व्यक्ति की रोचक कहानी – Short Motivational Story in Hindi

दोस्तों,आज मैं आप लोगों के साथ एक ऐसी कहानी शेयर करने जा रही हूं। जो कि काफी inspirational है और लोगों को काफी motivate करेगी।

अमेरिका में एक अश्वेत आदमी था। बचपन से ही गरीबी की वजह से कई मुश्किलों को सामना करना पड़ा। अपनी पढाई भी घर से ही की। फिर उसने 21 साल की उम्र में व्यापार करने की कोशिश की। उसके काफी प्रयासों के बाद भी नाकामयाब हो गया। फिर वह 22 साल में एक चुनाव लड़ने की तैयारी की। पर वह चुनाव भी हार गया। उसके बाद फिर उसने 24 साल की उम्र में व्यापार करने की दोबारा से कोशिश की, और उसमें भी उसे असफलता हाथ लगी।

Short Motivational Story in Hindi

कई सारे चुनाव लड़े। किन्तु उनको आर्थिक विकास न होने और गरीबों को न्याय दिलाने के कारण उन्होंने फैसला किया कि वे वकील बनेंगे, और उन्होंने वकालत की पढ़ाई शुरू कर दी। धीरे-धीरे समय बीतता गया उसकी उम्र 26 साल हो चुकी थी ।इस उम्र में ही उसकी पत्नी मर गई। उसके बाद 27 की उम्र में उसका मानसिक संतुलन बिगड़ गया। उसका नर्वस ब्रेकडाउन हो गया। धीरे-धीरे समय बढ़ा।

motivation story hindi

अब उसकी उम्र 34 साल हो चुकी थी। फिर से इलेक्शन लड़ा और कांग्रेस का चुनाव हार गया। 45 साल की उम्र में फिर उसने सीनेट के चुनाव में भी हार का सामना करना पड़ा। अब 47 साल की उम्र में उपराष्ट्रपति बनने में भी असफल रहा। चुनाव फिर से हार गया । 49 साल की आयु में उसे सीनेट के एक और चुनाव में ना कामयाबी मिली, और आखिरकार 52 साल की उम्र में उसे अमेरिका का राष्ट्रपति चुना गया।

Short Motivational Story in Hindi

दोस्तों, यही व्यक्ति आगे चलकर अब्राहम लिंकन (abraham lincoln) के नाम से जाना गया। इन्होंने अपनी जिंदगी में कई असफलताओं का सामना किया, लेकिन फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और आखिरकार अमेरिका के एक सफल राष्ट्रपति बने। वो अमेरिका के सोलहवें राष्ट्रपति थे और रिपब्लिकन पार्टी से थे। इनका जन्म 12 फरवरी 1809 में हुआ था। और यह 1860 में अमेरिका के पहले रिपब्लिकन राष्ट्रपति चुने गए।

abraham lincoln real story in hindi

अब्राहम लिंकन को दास प्रथा को खत्म करने और अमेरिकी गृहयुद्ध से निजात दिलाने का श्रेय जाता है। वे प्रथम रिपब्लिकन थे जो अमेरिका के राष्ट्रपति बने। उन्होंने कहा था कि, ‘जब मैं कुछ अच्छा करता हूं तो अच्छा अनुभव करता हूं और जब बुरा करता हूं तो बुरा अनुभव करता हूं. यही मेरा मजहब है.’

इसे भी पढ़े –

दोस्तों यह Short Motivational Story in Hindi आपको कैसी लगी, कृपया हमें कमेंट में बताये।

You may also like...

3 Responses

  1. Prakash says:

    Awsm True Story

  2. very good article thanks for sharing

  3. CLMeena says:

    Very good story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते