ये है सबूत कि कण कण में है शिव – ये 2 Dharmik Kahani शिव भक्त ज़रूर पढ़े

केदारनाथ यात्रा के दौरान शिव का एहसास 

जब मैं जून 2018 में केदारनाथ यात्रा के लिए गया तो मैंने देखा कि मुख्य द्वार के आगे एक बड़ा सा पत्थर पड़ा हुआ है. आपको शायद याद होगा कि 2013 में Uttarakhand में बहुत ज़्यादा flood आ गए थे. उस वक्त बहुत ज़्यादा जान माल का नुक्सान हुआ था और केदारनाथ मंदिर के आसपास का तकरीबन सब कुछ नष्ट हो गया था. लेकिन उस वक्त कही से एक बड़ा सा पत्थर कही से आकर केदारनाथ मंदिर के मुख्य द्वार पर आकर रुक गया जिसकी वजह से मंदिर को कोई नुक्सान नहीं हुआ. क्या ये एक इत्तफाक है या कोई दैवी शक्ति है?

मुझे अपने शिव की शक्ति पर कोई संदेह नहीं और ये मैंने तब महसूस किया जब मैं इस बड़े से पत्थर के सामने गया. जैसे ही मैं इस पत्थर के सामने खड़ा हुआ मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे शरीर कोई असामान्य शक्ति का परवाह हुआ हो. मुझे इतना सुन्दर और दिव्या एहसास पहले कभी नहीं हुआ था. यकीनन ये पत्थर का यहाँ प्रकट होना कोई इत्तफाक नहीं।

हर शिव भक्त को केदारनाथ मंदिर के इस रहस्य के बारे में ज़रूर पता होना चाहिए. और अगर आपको ये धार्मिक कहानी अच्छी लगी तो इसे और शिव भक्तो के साथ भी शेयर करे.

जब कॉलेज के पीछे से शिवलिंग प्रकट हुआ – सच्ची धार्मिक घटना

ये धार्मिक कहानी है उत्तराखंड के देहरादून में एक ITI कॉलेज की जहाँ एक प्रोफेसर काम करते है. एक रात उन प्रोफेसर को सपना आया कि कॉलेज के पीछे जहाँ कूड़े का ढेर है उसके नीचे शिवलिंग है. प्रोफेसर भोलेनाथ के बहुत बड़े भक्त थे. अत: उन्होंने  कुछ छात्रों को इकठ्ठा किया और उस कूड़े वाले स्थान की सफाई करने लगे. काफी देर तक सफाई करने के बाद जब शिवलिंग नहीं मिला तो कुछ छात्रों और professor ने उनका मज़ाक उड़ाना शुरू कर दिया।

लेकिन ये प्रोफेसर जानते थे कि यहाँ कुछ तो है. अत: उन्होंने कुछ छात्रों को विनती करते हुए कहा कि थोड़ा और खोदते है. कुछ ही देर में उन्होंने 2 फ़ीट और खुदाई कर दी और फिर हुआ एक ऐसा चमत्कार जिसने लोगों की सोच ही बदल दी. वहां उन्हें करीब 1000 साल से भी पुराना शिवलिंग मिला जिसे देख सबके होश उड़ गए और सब अपने हाथ जोड़े उसे निहारते रहे.

उस दिन से हर साल इस कॉलेज में भंडारा होता है और वही एक शिव का मंदिर भी स्थापित किया गया. आज दूर दूर से लोग इस शिवलिंग के दर्शन के लिए यहाँ आते है. अगर कोई भक्त इस मंदिर में शिव के दर्शन करना चाहता है तो वे इस पते पर जा सकते है:

ITI Doiwala, Haridwar Road, National Highway – 58, Dehradun, Uttarakhand

ये स्टोरी भी पढ़े –

Bhagwan shiv ki kahani आपको कैसी लगी हमें कमेंट में बताये. और आपके पास  भी  Kahanyanहैं तो हमें भेजे.

You may also like...

1 Response

  1. Tk💖 says:

    Bahut hi Rochak aur Sachi Kahani Hai
    Om Namah Shivay
    🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते