सोने का अंडा देने वाली मुर्गी – The Golden Egg Story in Hindi

दोस्तों शायद आपने भी यह golden egg story in hindi सुनी होगी। यह कहानी बहुत पॉपुलर हैं। इस कहानी को आज मैं फिर से आपको बता रही हूँ। इस कहानी में हमें बहुत कुछ सिखने को मिलती हैं। आइयें जानते sone ka anda dene wali murgi की कहानी..

The Golden Egg Story in Hindi

Farmer and Golden Egg Story with Moral

मदनपुर गांव में एक गरीब किसान रहता था। वह अपनी जिंदगी बिताने के लिए खेत में काम किया करता था। वो प्रतिदिन के जैसे ही अपने खेत में काम कर रहा था। उस दिन उसे खेत में काम करते करते एक घायल मुर्गी मिली।उसके शरीर से खून निकल रहा था। उसे देख कर किसान को दया आ गई।

वह उस मुर्गी को घर ले आया। उसने उसके जख्म को साफ किया और अच्छे तरीके से उसकी सेवा की। निरंतर सेवा से मुर्गी धीरे-धीरे ठीक होने लगी। फिर जब वह ठीक हो गई तो उसने किसान को धन्यवाद दिया एवं कहा ,”तुमने मेरे प्राण बचाये हैं। जिसके लिए मैं सदा तुम्हारी आभारी रहूंगी। मैं तुझे हर दिन इनाम के रूप में एक सोने का अंडा दूंगी ।”

यह सुनकर किसान खुश हो गया। मुर्गी के कहे अनुसार, वे प्रतिदिन प्रातः काल में वह एक सोने का अंडा किसान को दिया करती। किसान उसे बेचकर धन इकट्ठा करता था। वो प्रतिदिन मुर्गी के अंडे को जाकर पास के शहर में बेच आया करता।

धीरे-धीरे किसान के पास बहुत ज़्यादा धन इकट्ठा हो गया। फिर एक दिन किसान के मन मे लालच आ गया। उसने सोचा ,”मुझे प्रतिदिन अंडे के लिए इंतजार करना पड़ता है क्यों नाम है मुर्गी के पेट को काटकर सभी सोने के अंडे निकाल लूँ। और मुझे मुर्गी को रोज़ खाना भी नहीं देना होगा।”

दूसरे दिन ही, किसान सुबह उठकर लालच में आकर मुर्गी के पेट पर चाकू से वार किया। देखते ही देखते किसान ने चाकू से मुर्गी के पेट को चीर डाला। मुर्गी मर गई, लेकिन उसके पेट से कुछ भी नहीं निकला। यह देखकर किसान हक्का बक्का रह गया। उसे अपने किये पर बहुत दुख हुआ।

दोस्तों, हमें इस कहानी से सीख मिलती है कि हमें लालच नहीं करना चाहिए। लालच में आकर हम जो करते हैं उससे लाभ तो नहीं होता पर हानि जरूर होता है।

Also Read More – 

दोस्तों The Golden Egg Story in Hindi से आप क्या सीखे हमें कमेंट में बताये और आपके पास भी इस तरह की कहानी तो हमें भेजे।

You may also like...

1 Response

  1. Lalach har burai ki jad hai..nice story bro

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते