डरावना रास्ता (Chapter 2) New Horror Story in Hindi

( सूचना – दोस्तो, अगर अपने Chapter 1 नही पढ़ा है, तो इस link के जरिए पढ़ सकते हो या फिर इस ब्लॉग पे देख सकते हो पहले का भाग )

Link : https://shortstoriesinhindi.com/new-horror-story/

Best Horror Story in Hindi

सुखदेव ने सफेद साड़ी में किसीको हवेली के रास्ते से गुजरते हुए देखा। वह बहुत ही डर गया। कुछ पलों के लिए तो उसको समझ में ही नही आ रहा था की अब वह क्या करे ? वह बहुत घबरा गया और डर के मारे वह अपनी जान बचाने के लिए तेज़ी से वहा से भागा।

कुछ देर भागने के बाद, अचानक उसको आगे से किसी ने धक्का दिया और वह नीचे जमीन पर गिर पड़ा। फिर जैसे ही वह खड़ा हुआ, फिर उसको एहसास हुआ की उसके पैर पकड़कर कोई खींच रहा हो। उसने आगे – पीछे हर जगह देखा, लेकिन उसको कोई भी दिखाई नहीं दिया। सुखदेव ने फिर तेज़ी से भागने की कोशिश की। लेकिन कुछ कदम दौड़ने के बाद, उसके पैर अचानक रुक गए। उसको ऐसा लगा मानो फिर से कोई उसका पैर और हाथ पकड़कर उसको खींच रहा हो! वह जोर -जोर से चिल्लाने लगा, “ छोड़ो मुझे जाने दो। मैने क्या बिगाड़ा है तुम्हारा? मुझे जाने दो। क्या चाहिए तुमको ? ” उसके यह कहने के बाद, उसकी पीठ पीछे किसी ने हाथ रखा ऐसा उसको महसूस हुआ। उसने पीछे मुड़कर देखा तो उसके पैरो तले जमीन खिसक गई। उसके सामने सफेद साड़ी पहने एक चुड़ैल खड़ी थी। जिसके लम्बे लम्बे बाल थे और उसके हाथो से खून बह रहा था। यह दृश्य देखकर सुखदेव वहा पर ही बेहोश हो गया।

Real Horror Story in Hindi

Real Horror Story in Hindi

दूसरे दिन सुखदेव के पिताजी ने, सुखदेव के दोस्त को कॉल किया और पूछा,“ बेटा,सुखदेव तुम्हारे साथ ही हैं ना ? उसने सिर्फ मुझे यही बताया था की, ट्रेन से उतरने के बाद वह सीधा रतनपुर तुम्हारे घर पे जाएगा। वो तुम्हे आश्चर्य में डालना चाहता था,इसलिए उसने तुम्हे कॉल नहीं किया। आज सुबह से मैं प्रयास कर रहा हूं, लेकिन उसका कॉल ही नही लग रहा है। तुम बताओ ना वह तुम्हारे साथ है क्या ?” “ नहीं अंकल, वह मेरे साथ नहीं है। वह रतनपुर में नहीं आया। अगर यहां पे आया होता, तो मेरे साथ ही होता।” सुखदेव के दोस्त ने कहा। सुखदेव के दोस्त ने यह बात अपने दूसरे दोस्तों के साथ साझा की। कुछ दोस्तों ने कहा की देखो, सुखदेव अब कभी वापस नहीं आयेगा। हवेली के डरावने रास्ते से जो कोई भी रात को ११ बजे के बाद गुजरा है, वह कोई भी आज तक वापस लौटकर नहीं आ पाया। फिर सुखदेव के परिवार ने भी उसकी उम्मीद छोड़ दी और कुछ दिनों तक उसका शौक मनाया।

Short Horror Story in Hindi

Short Horror Story in Hindi

गांव के लोगों ने भूत – प्रेत भगाने के लिए एक उपाय सोचा। एक युवक, पास के एक गांव से एक बाबा को बुलाकर ले आया। भारी मुनाफे की लालसा में, ढोंगी बाबा भूत -प्रेत को भगाने के लिए तैयार हो गए, लेकिन वो बहुत डरपोक था। गांव की तरफ से अनाज, सोना, पैसे इन सबकी लालसा में उसने यह सौदा स्वीकार किया था। अगले दिन ये ढोंगी बाबा अपने साथ १० आदमी को लेकर हवेली के डरावने रास्ते से ११ बजे के बाद गुजर रहे थे। बाबा बहुत डर रहे थे, इसलिए वह अपने साथ १० आदमी को लेकर आया था। बाबा को बहुत घबराहट हुई, इसलिए वह रास्ते में बारी – बारी सब आदमी से बात करने लगा; लेकिन उसने थोड़ी देर बाद अपने पीछे देखा, तो सिर्फ ५ आदमी थे। उसको बड़ा आश्चय हुआ,की बाकी के ५ आदमी कहा पे गए होंगे ? घबराहट के मारे वह तेज़ी से आगे बढ़ा। थोड़ी देर बाद उसने पीछे मुडकर देखा तो सिर्फ २ आदमी थे। अब बाबा की घबराहट ओर ज्यादा बढ़ गई। डर के मारे उसके पसीने छूटने लगे। थोड़ी देर बाद उसने पीछे मुडकर देखा, तो उसके होश उड़ गए। पीछे कोई भी नहीं था। बाबा तेज़ी से जितना हो सके उतना भागा।

dangerous horror story in hindi

Dangerous Horror Story in hindi

कुछ देर भागने के बाद अचानक बाबा रुक गए; क्योंकि बाबा को चारो तरफ उस १० आदमी ने घेर लिया था। वह १० आदमी अब भूत के वश में थे, इसलिए उनको कुछ पता नहीं था,की वो क्या कर रहे है? सारे आदमी का चेहरा इन्सान से बदलकर भूत समान हो चुका था। सारे आदमी के हाथो से खून की बूंदे टपक रही थी। सबकी आंखे गहरी लाल हो चुकी थी और सारे आदमी के दांत में, मुंह के ठीक बीच में दो बड़े डरवाने दांत थे, जिससे बाबा को यह प्रतीत हुआ, की जैसे मानो यह सारे भूत उसको कच्चा ही चबा जायेंगे!

उस १० आदमी में से, एक आदमी ने अपना हाथ लम्बा किया और बाबा की गरदन पकड़ कर उसको ऊपर उछाल कर नीचे जमीन पर पछाड़ा। बाबा ने विनती की, “ तुम कौन हो ? मुझे जाने दो। बदले में तुम्हे जो चाहिए, वह ले लो। मेरे पास बहुत सारे पैसे है, सोना है, गहनें है, वह तुम रख लो, लेकिन कृपया करके मुझे जाने दो। मेरी जान बख़्श दो।” यह बात बोलकर वह बाबा बहुत कांपने लगे। बाबा की बात सुनकर, अचानक पीछे से एक दूसरी आवाज आई, वह आवाज एक चुड़ैल की थी। उसने कहा की, “ मूर्ख, यहां से कोई जिंदा नहीं जा सकता। मेरे बच्चे भूखे है, मेरी मां और पिता भूखे है, उनको खून चाहिए। आज की रात वो तुम्हारा खून पियेंगे।” ऐसा बोलकर उस चुड़ैल ने बाबा का जोर से गला दबाया और फिर अपने लम्बे नाखून से उसके पूरे शरीर को खून से लथपत कर दिया।

Ghost story in Hindi

थोड़ी देर बाद उस १० आदमी के शरीर से प्रेत आत्मा निकल गई और एक भूत सामने आया, जिसका पूरा शरीर काले वस्त्र से ढका हुआ था। उसने अपनी शक्तियों से १० आदमी को खींचकर हवेली के तरफ ले जाने लगा और जाते – जाते कहने लगा की “ तुम अब मेरे शिकार हो। चलो मेरे साथ। आज में अपना हाथ तुम्हारे खून से रंग दूंगा। यहां से आज तक कोई बचकर नहीं गया, तो तुम भी उन सबकी तरह ही मारे जाओगे। ”

Chapter 3 बहुत ही जल्द…

Also, Read More:

3 Responses

  1. Yan Thapa says:

    Nice and horrible story with a good explanation…👍🏻
    After watching chapter 1 and 2 now, I’m super excited for chapter 3…😃😃

  2. Divya Makwana says:

    Nice story 🙂

  3. Vaishali vasava says:

    Nice story

Leave a Reply

Your email address will not be published.

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते