“चाशनी” एक लघुकथा – Short Real Interesting Story in Hindi

तेज़ी से मुड़ती एक बस से डर कर वो पीछे हटा, मगर पीछे से आते एक स्कूटर ने उसे फिर आगे होने को मजबूर कर दिया….

मैं परेशान था कि उस छोटे से परन्तु भीड़-भाड़ वाले चौराहे के बीचो-बीच खड़ा आख़िर वो कर क्या रहा था…चारों तरफ़ से निकलती, मुड़ती गाड़ियों से घबराकर वो तेज़ी से कभी आगे होता और कभी पीछे हटता, कभी दायें भागता तो कभी बायें! हैरानी की बात मगर यह थी कि बड़ी ढिठाई से हर बार वापिस उसी जगह आ खड़ा होता…

आवारा सा लग रहा था शक़्ल-सूरत से I और सेहत मानो प्रतिनिधित्व कर रही हो हिंदुस्तान में ग़रीबी-रेखा से नीचे रहने वाली जनता का…

A dog sad story in hindi

मैंने थोड़ा आगे होकर ध्यान से देखा उस जगह को जो उसे लगातार आकर्षित कर रही थी – पास की दुकान से जलेबी खाकर किसी ने चाशनी भरे पत्तों को वहाँ फेंक दिया था, और वो बेवकूफ़ जैसे अपनी जान को ताक पर रखे, एक-एक बूँद चट कर जाना चाहता था!

तभी मुझे अपनी बस आती दिखी, चौराहा पार कर के उसके हमारे स्टैंड तक पहुँचने के बीच में एक अजीब सी गुर्राहट-भरी चीख सुनाई दी I कॉलेज जाने की जल्दी थी, मैंने भाग कर बस पकड़ ली I

उत्सुकता से मैंने पीछे के शीशे में से बाहर देखा…

उस कुत्ते का ख़ून चाशनी के साथ मिल कर पूरी सड़क पर बह रहा था!

Written By –

Mohanjeet Kukreja

Also, Read More:-

दोस्तों यह छोटी सी Short Interesting Story in Hindi आपको कैसी लगी हमें कमेंट में बताये .

 

You may also like...

2 Responses

  1. Trilochan Singh Kuckrejja says:

    What a tragedy…the greed of having more sweet vs the risk of life was perhaps not analysed adequately ….mushkil bhi hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते