बेहतरीन मोरल स्टोरीज बच्चो के लिए Awesome Moral Stories for Kids in Hindi

Kids nowadays need to understand the life lessons and we can do this by encouraging them to read moral stories. Here you can read 2 awesome moral stories for kids in Hindi. The following Hindi stories are not only entertaining but provide thoughtful lessons to the kids too. We think every parent must give some spare time to their kids in a day so that they can read such valuable Hindi moral stories. Or parents can converse these stories to their small kids.

बच्चों को कहानियों के जरिए जीवन के मूल्यों को समझना बहुत ही आसान होता है इसे बच्चे जल्दी सही और गलत में फर्क करना भी सीख जाते हैं ।  इसी लिए हम आपके लिए लेकर आए है short stories for kids जो आपके बच्चों को दिलचस्प तरीके से अच्छी बाते सीखने में मदद करेंगी ।

1). जैसी नजर वैसे लोग – Short Moral Story in Hindi

एक बार एक संत अपने शिष्यों के साथ नदी में स्नान कर रहे थे। तभी वहां से एक राहगीर गुजरा , महात्मा को नदी में नहाते देख राहगीर ने उनसे कुछ पूछने के लिए रुक गया। राहगीरी ने संत से पूछा – महात्मन क्या आप बता सकते है कि इस गांव में रहने वाले लोगों का व्यवहार कैसा है ?

राहगीर के इस सवाल पर महात्मा ने उस व्यक्ति से कहा कि ” भाई में तुम्हारे सवाल का जवाब बाद में दूंगा पहले तुम मुझे ये बताओ कि तुम जिस जगह से आये वो वंहा के लोग कैसे है ?”   संत के  इस सवाल पर उस आदमी ने कहा “उनके बारे में क्या कहूँ महाराज वंहा तो एक से एक कपटी और दुष्ट लोग रहते है इसलिए तो उन्हें छोड़कर यंहा बसेरा करने के लिए आया हूँ।”  उस आदमी के जवाब को सुन महात्मा ने कहा – ” तुम्हे इस गाँव में भी वैसे ही लोग मिलेंगे कपटी दुष्ट और बुरे जैसे तुम्हारे शहर में थे।”  संत की ये बात सुन आदमी आगे बढ़ गया।

उस आदमी के वहां से जाने के थोड़ी देर बाद एक ओर राहगीर उसी मार्ग से गुजरा और संत को प्रणाम कर उनसे उस गांव के बारे में पूछने लगा। राहगीर ने संत से कहा ” महात्मा जी मैं इस गाँव में नया हूँ अपने देश को छोड़कर इस गांव में बसने आया हूं क्योंकि यहां कि हवा ने मुझे काफी प्रभावित किया है। लेकिन इस गांव के बारे में मैं कुछ नहीं जानता। क्या आप मुझे बता सकते है कि यहां के लोग कैसे हैं? संत ने इस राहगीर से भी वही सवाल पूछा जो पहले राहगीरी से पूछा था कि उनके देश में कैसे लोग थे? लेकिन इस राहगीर ने पहले राहगीर से विपरीत जवाब दिया।

इस राहगीर ने कहा कि – वो जहां से आया है वहां बहुत ही सभ्य सुलझे हुए और नेकदिल इन्सान रहते है और उसका वंहा से कंही और जाने का कोई मन नहीं था लेकिन व्यापार के सिलसिले में उसे यहां आना पड़ा। राहगीर की ये बात सुनकर संत ने कहा कि जैसे लोग तुम्हारे देश में थे वैसे ही लोग यहां भी है नेकदिल और सभ्य। संत का जवाब सुनकर राहगीर खुश होकर वहां से आगे बढ़ गया।

संत और राहगीरी की ये सब बातें संत के शिष्य पास खड़े सुन रहे थे। राहगीर के जाने के तुरंत बाद शिष्यों ने संत से सवाल किया कि गुरु जी आपने दोनों राहगीर को अलग – अलग जवाब क्यों दिए ? शिष्यों के इस सवाल पर संत ने कहा कि वत्स जैसा हम चीजों को देखते है वो असल में वैसी नहीं होती , लेकिन हम फिर भी अपने नजरिए को हकीकत बना लेते है इसलिए बुरा देखने वाले को बुरा ही दिखता है और अच्छा देखने वाले को अच्छा ही दिखता है।

2). लालची व्यक्ति से सबसे गरीब कोई नहीं – Short Story in Hindi

एक बार एक महात्मा को भ्रमण करते वक्त एक रुपया पड़ा हुआ मिला। महात्मा एक वैरागी और संतोष स्वभाव के व्यक्ति थे। जिन्हें पैसों की जरुरत नहीं थी। लेकिन फिर भी महात्मा ने एक रुपया उठा लिया। और सोचा कि वो इस एक रुपये को किसी गरीब व्यक्ति को दे देंगे। लेकिन काफी दिन गुजरने के बाद भी महात्मा को कोई भी गरीब व्यक्ति नहीं मिला जिसे इस एक रुपए की आवश्यकता हो।

फिर एक दिन सुबह -सुबह महात्मा की कुटिया के आगे से एक राजा अपनी सेना के साथ जंग के लिए जा रहा था। महात्मा को देखकर राजा ने अपनी सेना को रुकने का आदेश दिया और महात्मा से आशीर्वाद लेने के लिए उनके पास गया। राजा ने महात्मा से कहा कि वो अपने राज्य को बढ़ाने के लिए दूसरे राज्य पर आक्रमण करने जा रहा है। इसलिए वो उसे विजय होने का आशीर्वाद दें। राजा की ये बात सुनकर महात्मा ने अपने पास रखा एक रुपये का सिक्का राजा को पकड़ा दिया। महात्मा के एक रुपया देने से राजा को आश्चर्य भी हुआ और गुस्सा भी आया। राजा ने महात्मा से उन्हें एक रुपया देने का कारण पूछा।

राजा के सवाल पर महात्मा ने कहा कि वो इतने दिनों से किसी दरिद्र व्यक्ति की तलाश कर रहे थे जिसे वो ये एक रुपया दे सकें। लेकिन राजा से ज्यादा दरिद्र व्यक्ति उन्हें कोई नहीं मिला। जो समृद्धि राज्य के होते हुए भी दूसरे के राज्य को पाने की लालसा रख रहा है।

शिक्षा – इस कहानी से ये शिक्षा मिलती है कि कभी भी लालच नहीं करना चाहिए । लालची व्यक्ति की आकक्षाएं कभी पूरी नहीं होती है । 

शॉर्ट स्टोरीज फॉर किड्स इन हिंदी बच्चों को दिलचस्प और रोचक अंदाज में नैतिक मूल्यों से अवगत कराती है। आपको शॉर्ट स्टोरीज फॉर किड्स इन हिंदी कैसी लगी। कमेंट करके हमें जरुर बताएं।

Read More : 

You may also like...

1 Response

  1. vishal says:

    beautiful stories , very good content writing , Great.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते