“चपरासी की नौकरी” Motivational Story in Hindi for Students

एक लड़का जो कि करीब 23 साल की उम्र का था, चपरासी की नौकरी के लिए एक बड़ी कंपनी में interview देने गया. उस कंपनी के मालिक ने उसे कहा कि अगर तुमने ये फर्श अच्छे से साफ़ किया तो तुम्हारी नौकरी पक्की। बस फिर क्या था, उस आदमी ने फर्श को एकदम से चमका दिया जिसे देखते ही मालिक ने कहा तुम्हारी नौकरी पक्की, तुम कल से काम पर आ जाना. बॉस ने उस आदमी को बुलाया और कहा कि अपनी एक फोटो, ID प्रूफ और email ID भी बतानी होगी. आदमी ने तुरंत कहा कि मैं तो एक गरीब व्यक्ति हूँ, मेरे पास ना तो कंप्यूटर है और ना ही मैंने कभी Email ID बनायीं है.

Motivation story for student in hindi

Boss ने तुरंत कहा “अरे… हमारी बहुत बड़ी कंपनी है.. हमें हर काम करने वाले व्यक्ति की Email चाहिए होती है और ये अनिवार्य है, आज के युग में अगर तुम्हारी email ID नहीं है तो तुम्हारा कोई अस्तित्व नहीं, हम तुम्हे इस नौकरी पर नहीं रख सकते. वह व्यक्ति बहुत निराश हुआ और वहा से चल दिया. अब उसकी जेब में केवल Rs 500 रुपये थे. उसने फैसला किया कि वह सब्जी बेच कर थोड़े पैसे कमा लेगा. उसने Rs 500 के टमाटर खरीद लिए और सिर्फ 2 घंटे में उसके सभी टमाटर बिक गए. उसने फिर से Rs 500 के टमाटर खरीदे और वे फिर बिक गए. इस तरह उसने दिन में 3 बार 500-500 रुपये के टमाटर खरीदे और सारे टमाटर बिक भी जाते. दिन के अंत में उसे काफी मुनाफा हो गया.


घर आ कर उस व्यक्ति ने सोचा कि अगर मैं इसी तरह सब्ज़ी बेचता राहु तो काफी मुनाफा कमा लूंगा. उसने 6 महीने तक यही काम किया और जब उसके पास काफी रुपये इकठ्ठा हो गए तो उसने सब्ज़ी की एक रेढ़ी खरीद ली. अब उसका काम बहुत अच्छा चलने लगा. बहुत जल्द उसने ट्रक से सब्ज़ी बेचनी शुरू कर दी और देखते ही देखते उसने सब्जी बेचने का wholesale काम शुरू कर दिया. अब हर दिन वह 10 से 15 ट्रक में सब्जी deliver करने लगा जिसके लिए उसने कुछ व्यक्तियों को काम पर रखा था. कुछ सालो बाद उस आदमी food retailing में बड़ा नाम कमा लिया।

एक दिन उसने सोचा क्यों न मैं अपनी insurance करवा लू. इसके लिए उसने एक insurance करने वाले को घर पे बुलाया. जब broker उस व्यक्ति की इन्शुरन्स कर रहा था तो उसने उस आदमी का email पुछा तो उसने कहा मेरी email ID नहीं है. इन्शुरन्स broker ने बड़ी हैरानी से पुछा कि आपका इतना बड़ा business है लेकिन आपका email ID नहीं, ऐसा कैसे हो सकता है. उस ब्रोकर ने कहा “आपको पता है अगर आपका ईमेल होता तो आप आज कहा से कहा होते !”

वह व्यक्ति थोड़ी ख़ामोशी के बाद बोला …” अगर मेरा email होता तो आज मैं एक चपरासी होता”
ये बात उस Insurance Broker को तो समझ नहीं आयी लेकिन आपको शायद अच्छे से समझ आ गयी होगी.

अगर आज आपके साथ कुछ अच्छा नहीं हो रहा है तो निराश मत होईये. ज़िन्दगी में आगे चल कर कई नए रस्ते खुलेंगे, कई मौके मिलेंगे। इसलिए हमेशा कोशिश करते रहिये और मात्र एक हार के बात धैर्य मत खोइए, क्या पता कामयाबी शायद आपकी अगली कोशिश की प्रतीक्षा कर रही हो !

Also Read:

दोस्तों यह motivation story for student in hindi आपको कैसी लगी, हमें जरूर बताये और आपके पास भी कोई कहानी तो हमें भेजे, जल्दी पब्लिश किया जायेगा।

You may also like...

3 Responses

  1. Chitta says:

    Nice story sir

  2. Vivek gupta says:

    Motivation story

  3. Suraj kumar singh says:

    Apki ye kahani bahut hi motivational hai. Is kahani ko jo bhi padhega usko motivation jarur milega.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते