हाय मैं नीचे कैसे आऊँ.. वैरी फनी हिंदी में कहानी – Funny Story Hindi

आजकल फनी या हंसाने वाली Hindi Stories का तो जैसे अकाल ही पड़ गया है लेकिन फिर भी हम आपके लिए एक ऐसी हिंदी में कहानी लेकर आये है जो फनी भी है और साथ ही एक मजेदार घटना का वर्णन भी करती है. तो आईये पढ़ते है ये रोचक कहानी।

हाय मैं नीचे कैसे आऊँ… Very Funny Story in Hindi

मुकुल को आम बहुत ज्यादा पसंद थे। जहाँ कहीं वो आम देख लेता, तुरन्त उसके मुंह में पानी आ जाता। एक बार वह एक रास्ते से गुजर रहा था कि तभी अचानक उसकी नजर एक आम के पेड़ पर पड़ी, जिस पर बहुत सारे पीले रसीले आम लटक रहे थे। आम को देखकर मुकुल के सब्र का बाँध टूट गया और वह बिना सोचे समझे तुरन्त पेड़ पर चढ़ गया।

हाय मैं नीचे कैसे आऊँ... वैरी फनी हिंदी में कहानी

आम, पेड़ पर काफी ऊँचाई पर लगे थे। पेड़ पर चढ़ कर उसने जी भर कर आम खाये। आम के लालच में वह पेड़ पर चढ़ तो गया लेकिन जब उतरने का सोचा तो नीचे देखते ही उसका सिर घूमने लगा। लालच में पड़ कर वह पेड़ पर बहुत ऊंचाई तक चढ़ आया था। काफी देर तक वह पेड़ पर बैठा नीचे आने की युक्ति सोचता रहा, लेकिन कई घंटे बीतने पर भी उसको कोई रास्ता नहीं समझ में आया।

पढ़े ताई का चश्मा फनी हिंदी में कहानी

उसको ऊँचाई से नीचे देखने पर यह समझ में आ रहा था कि अगर यहाँ से कूदा तो बहुत चोट आएगी। अंत में वह जोर जोर से रोने चिल्लाने लगा। उसकी आवाज सुनकर धीरे धीरे भीड़ एकत्रित होने लगी। वह रो रोकर सबसे खुद को नीचे उतारने की विनती करने लगा। सभी लोग परेशान थे कि उसको कैसे नीचे उतारा जाये। तभी भीड़ में से एक आवाज आई! मैं तुम्हें नीचे उतार सकता हूँ। मुकुल ने नीचे की ओर देखा कि एक मियाँ साहब सामने खड़े हुए हैं।

मियाँ जी ने एक रस्सी मुकुल की ओर फेंकी और उससे कहा, जल्दी से यह रस्सी अपनी कमर में कस कर बांध लो। मुकुल ने भी बिना सोचे समझे झट से रस्सी कमर में बांध ली। इससे पहले कि कोई पूछ पाता, कि इससे मुकुल को कैसे नीचे उतार पाओगे… मियाँ ने झट से रस्सी नीचे की ओर खींच ली। मुकुल धड़ाम से जमीन पर आ गिरा। इतनी अधिक ऊँचाई से गिरने के कारण मुकुल को बहुत चोट आई, कई सारी हड्डियाँ भी टूट गई।

पढ़िए मूर्ख गधा एक हंसाने वाली हिंदी में कहानी

मुकुल को दर्द से छटपटाता देख भीड़ ने मियाँ की जमकर धुनाई कर दी। पीटते पीटते लोग बोलने लगे तुम्हें किसने कहा कि ऐसे खींचने से कोई नीचे उतर जाता है! मियाँ जी रूआँसे स्वर में बोले, भाई ये मेरा आजमाया हुआ नुस्खा है। मैंने ऐसे ही एक आदमी की जान बचाई थी। बस मुझसे इतनी भूल हो गई कि मैं यह भूल गया कि वो आदमी कुऐं में था या पेड़ पर। इतना सुनते ही भीड़ मियाँ जी कि बेवकूफी पर हँसने लगी।

Also Read – मुर्ख गधा – फनी स्टोरी इन हिंदी Funny Story in Hindi

दोस्तों हमें यकीन है कि आपके ये मजेदार हिंदी में कहानी अच्छी लगी होगी। हमारे साथ जुड़े रहे और पढ़ते रहिये लाजवाब हिंदी कहानियां। और आपके पास भी कोई Story हो तो हमें मेल ([email protected]) करे, हम उसे जल्दी पब्लिश करेंगे।

You may also like...

2 Responses

  1. pooja says:

    haa haa haaa… very funny.. aise me mukul ki jaan bhi jaa sakti thhi…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते