बच्चो के लिए लघु कहानियां – Hindi Short Stories for Class 1

Hindi Short Stories for Class 1

Hindi Short Stories for Class 1

हर वस्तु की इज़्ज़त करना सीखे

एक आदमी के घर के पास एक बड़ा सा पेड़ था. बचपन में वह उस पेड़ के नीचे खूब खेलता था लेकिन जब बड़ा हुआ तो उसने सोचा कि अब ये पेड़ मेरे किसी काम का नहीं और इसलिए उसने उस पेड़ को काटने का फैसला किया. जब वह आदमी अपनी कुल्हाड़ी लेकर उस पेड़ के पास पहुंचा तो कई चिड़िया उस आदमी के पास आयी और उससे प्रार्थना करने लगी कि पेड़ ना काटे क्यूंकि इस पेड़ पर उनका घोसला है और उनके छोटे छोटे बच्चे भी है.

लेकिन वह आदमी पेड़ काटने का फैसला कर चूका था. उसने चिडियो की एक ना सुनी और अपनी कुल्हाड़ी से पेड़ काटने ही वाला था कि एक गिलहरी भी आ गयी. वह गिलहरी भी उस आदमी से प्रार्थना करने लगी कि इस पेड़ पर मेरा घर है और इसलिए इस पेड़ को मत काटो. उस गिलहरी ने कहा कि मैं तुम्हे बहुत सारे अखरोट दूंगी लकिन इस पेड़ को मत काटो. लेकिन वह आदमी किसी भी हालत में उस पेड़ को काटना चाहता था क्यूंकि उस पेड़ की वजह से उसके घर में धुप नहीं आती थी.

उसने गिलहरी की एक ना सुनी और जैसे ही पेड़ काटने के लिए दोबारा अपनी कुल्हाड़ी उठायी, एक मधुमक्खी आयी और उस आदमी को कहा ” मैं ज़िन्दगी भर तुम्हे अपना शहद दूंगी, तुम जब भी शहद मांगोगे, मैं तुम्हे दूंगी लेकिन इस पेड़ को मत काटो, इस पर पर मेरा छत्ता है. उस मधुमक्खी ने थोड़ा सा शहद उस आदमी को दिया. शहद खाते ही उस आदमी को बड़ा आनंद आया और उसे अपना बचपन याद आ गया. उसे याद आ गया कि कैसे उसने अपना पूरा बचपन इस पेड़ के नीचे खेलते हुए बिताया था. अब उस आदमी की सोच बदल गयी और उसने फैसला किया कि इस पेड़ को अब वह नहीं काटेगा. उसने चिड़िया, गिलहरी और मधुमक्खियों को वादा किया कि अब वो इस पेड़ को कभी नहीं काटेगा.

कहानी का मोरल / सार : इस संसार में हर एक वस्तु और हर एक जीवित प्राणी की कोई ना कोई भूमिका रहती है. हमें किसी भी जीवित प्राणी को बिना वजह दुःख नहीं देना चाहिए. 

2nd Short Hindi Kahani – Hindi Short Stories for Class 1

सोचो, समझो और फिर करो

एक बार एक लोमड़ी रात को कही जा रही थी कि अचानक वो एक कुएं में गिर गयी. कुआँ काफी गहरा था और बाहर निकलने का लोमड़ी कोई रास्ता नहीं मिल रहा था. कुएं में पानी बहुत कम था. मजबूरन लोमड़ी ने पूरी रात उस कुएं में गुज़ारने की सोची. उसने सोचा कि सुबह किसी ना किसी से मदद मांग कर बाहर निकल जाउंगी.

सुबह हुई और कुएं के ऊपर से एक बकरी ने देखा कि लोमड़ी कुएं में है. बकरी ने पुछा कि लोमड़ी बहिन तुम कुएं में क्या कर रही हो. लोमड़ी ने कहा ” मैं पानी पीने आयी थी और तुम्हे पता है इस कुएं का पानी इतना मीठा है कि मैं आज तक इतना मीठा पानी कभी नहीं पीया.”

अपनी प्यास बुझाने के चक्कर में बकरी ने भी कुएं में छलांग लगा दी. पानी पीने के बाद बकरी ने लोमड़ी से कहा “अब ऊपर कैसे जाएंगे?”

लोमड़ी ने कहा ” तुम घबराओ नहीं, तुम अपनी मज़बूत गर्दन पर मुझे बिठा कर ऊपर तक पहुंचा दो, उसके बाद मैं तुम्हे भी ऊपर खींच लुंगी”

बकरी बेचारी चालाक लोमड़ी की बातो में आ गयी और उसने लोमड़ी को अपनी गर्दन पर बिठा कर कुएं से बाहर निकाल दिया. बाहर आ कर लोमड़ी ने कहा “तुम बहुत बेवक़ूफ़ हो, तुमने बिना कुछ सोच समझे कुएं में छलांग लगा दी, अब मैं तो तुम्हे निकाल नहीं सकती, अगर कोई आया तो मदद मांग लेना. बकरी बेचारी वही कुएं में अपनी बेवकूफी के लिए रोती रही.

कहानी का मोरल / सार : बिना सोचे समझे अगर कोई काम करोगे तो बाद में पछताना पड़ता है.

तीसरी लघु कहानी – Hindi Short Stories for Class 1

कभी किसी की बुराई मत करो

एक बार 3 मित्र कही जा रहे थे. चलते चलते वो काफी तक गए थे और उन्होंने सोचा कि क्यों ना कही रुक कर थोड़ा आराम कर लिया जाए. वे तीनो एक बड़े पेड़ के नीचे बैठ गए और आराम करने लगे. उनमें से एक मित्र ने कहा ” ये पेड़ किसी काम का नहीं, देखो …. अब ये सूख चूका है और इस पर कोई फल भी नहीं लगा.” ये सुन कर दूसरे मित्र ने कहा ” चाहे इस पर को फल ना हो लेकिन ये बड़े काम का पेड़ है, देखो न… ये हमें अपनी छाया दे रहा है और धुप से बचा रहा है.” उसने आगे कहा कि हमें किसी की बुराई नहीं करनी चाहिए. इस दुनिया में हर कसी की कोई ना कोई विशेषता ज़रूर होती है. अगर हम उनकी वो विशेषता ना देखे और हर समय उनकी बुराई करते रहे तो वो विशेषता कभी उभर कर नहीं आती.

कहानी का मोरल / सार : कभी भी किसी की बुराई ना करे. बुराई करने से दूसरे के विशवास को ठेस पहुँचती है. बच्चो को हमेशा उनकी अच्छाई की तारीफ करे ताकि उन्हें ज़िन्दगी में और भी ज़्यादा बेहतर करने की प्रेरणा मिल सके.     

दोस्तों ये थी तीन Hindi Short Stories for Class 1. हमें उम्मीद है कि ये हिंदी कहानिया आपको अच्छी लगेगी, हमें कमेंट में ज़रूर बताये।   

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

तुम्हारे जैसा कोई नहीं – Motivational Hindi Story for Class 5

Doraemon की ये कहानी सुन रोना आ जाएगा – Death of Doraemon in Hindi

अपना और समाज का भला चाहते है तो क्रोध से दूर रहिये – Moral Story on Anger in Hindi

बच्चो में साहस भरने के लिए एक कहानी – Bravery Story in Hindi

Courage Story in Hindi – अब अपनी क्लास का हीरो बन गया अंकुश

किसान और उसके चार बेटे – ये शिक्षाप्रद कहानी हर किसी को पढनी चाहिए

Awesome Moral Stories for Kids in Hindi – बेहतरीन मोरल स्टोरीज बच्चो के लिए

Aaisha Mukherjee

Hi, basically from Delhi, mujhe stories, especially love stories likhna aur read karna accha lagta hai. Main college me hu aur kabhi kabhi is website ke liye likhti hu. Agar aapko meri story acchi lage to comment me zarur bataye. Like us on Facebook

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *