“रोहित…….बहुत देर हो गयी यार” Sad Childhood Love Story in Hindi

ये कहानी है उन दो लोगों की है जो बचपन से ही एक – दूसरे के काफी अच्छे दोस्त थे। इनकी ये दोस्ती जवान होने पर कब प्यार में तब्दील हो गई उन्हें खुद भी पता नहीं चला। लेकिन वो कहते हैं ना कि हर काम वक्त रहते ही पूरा कर लिया जाए तो बेहतर होता है। कुछ ऐसा ही इस प्रेम कहानी में भी है। तो आइए जानते हैं रोहित और आँचल की sad childhood love story in Hindi.

Sad Love Kahani

रोहित और आंचल बचपन से ही बहुत अच्छे दोस्त थे। स्कूल, ट्यूशन और फिर कॉलेज दोनों ने साथ – साथ किया। वजह ये थी कि दोनों के पापा भी एक- दूसरे के काफी अच्छे दोस्त थे और इनके घर भी साथ-साथ थे । रोहित बचपन से ही मनमौजी लड़का था। उसे जो अच्छा लगता वो वही करता। उसका दिमाग कभी भी एक जगह स्थिर नहीं रहता था। इसी वजह से वो पढ़ाई में भी ज़्यादा अच्छा नहीं था, लेकिन आंचल काफी सुलझी हुई लड़की थी और पढ़ने में भी बहुत अच्छी।

Sad Childhood Love Story in Hindi

Sad childhood love story in Hindi

स्कूल टाइम से ही आंचल हमेशा रोहित की मदद किया करती थी। एक बार स्कूल में हिस्ट्री का टेस्ट हुआ। हमेशा की तरह रोहित टेस्ट के दौरान इधर- उधर देख रहा था। लेकिन आंचल इतनी स्मार्ट थी कि उसने झट से अपना एक पेपर पूरा कर के रोहित को दे दिया और अपना पेपर भी वक्त रहते पूरा लिया। लेकिन टीचर ने दोनों पेपर्स में एक ही हैंड राइटिंग देखकर दोनों को पकड़ लिया और उनकी हरकतों को घर तक पहुंचा दिया। लेकिन हमारे घर वालों ने रोहित को डांटा और आंचल को सब्बासी दी।

 

Sad childhood love story in Hindi

आंचल और रोहित बचपन से ही साथ- साथ रहा करते थे। आंचल हर चीज में रोहित का बहुत ख्याल रखती। रोहित के बीमार होने पर वो भी स्कूल नहीं जाती और दिनभर उसके पास बैठती। ऐसा लगता मानो आंचल बचपन से ही रोहित से प्यार करती थी। स्कूल के बाद जब दोनों कॉलेज पहुंचे, तो रोहित आंचल से थोड़ा दूर होने लगा। रोहित दिनभर कॉलेज की दूसरी लड़कियों के आगे- पीछे घूमा करता था। रोहित की ये हरकतें देख आंचल बहुत गुस्सा करती। जब एग्जाम आता तो हमेशा की तरह ही आंचल रोहित को पढ़ाया करती थी, लेकिन वो रोहित की इन हरकतों से बहुत परेशान हो गई थी। कॉलेज की दूसरी लड़कियां भी रोहित के आगे- पीछे बहुत घूमती थी, ये सब आंचल से बर्दाश्त नहीं हो रहा था।

Sad Boy Love Story in Hindi

एक दिन आंचल कॉलेज में एक लड़के के साथ बैठी हुई थी। रोहित ने जैसे ही ये देखा पता नहीं उसे क्या हो गया और उसने वहीं उस लड़के को पीटना शुरू कर दिया। रोहित ने उस लड़के की खूब पिटाई की। बाद में रोहित को खुद समझ नहीं आया कि उसने ये क्या कर दिया। लेकिन अब बहुत देर हो चुकी थी, क्योंकि रोहित की इस हरकत की वजह से आंचल ने उससे बोलना बंद कर दिया था। रोहित के काफी कोशिश करने के बावजूद आंचल ने उससे बात नहीं की।

Sad Heart Touching Love Story in Hindi

कई महीनों तक आंचल और रोहित में बात नहीं हुई। लेकिन बाद में रोहित से रहा नहीं गया, क्योंकि तब तक उसे भी एहसास हो गया था कि वो आंचल से बहुत प्यार करता है। एक दिन वो आंचल के घर माफी मांगने गया। रोहित को देख आंचल के चेहरे पर भी हल्की सी खुशी थी।

आंचल ने रोहित से बोला ‘क्या हुआ क्यों आये हो।‘

 

रोहित – मैं तुम से…

 

आगे रोहित कुछ और बोलता तब तक आंचल ने रोहित के हाथों में अपनी शादी का कार्ड दे दिया और कहा कि ‘ये है मेरी शादी का कार्ड, लेकिन तुम शादी में मत आना। तुम्हारे आने से मुझे अच्छा नहीं लगेगा।‘ जब रोहित मुड़ कर जा रहा था तो आँचल ने फिर कहा “रोहित, बहुत देर हो चुकी है”

ये थी Very Sad Short Love Story in Hindi.

वक्त पर किया गया काम ही बेहतर होता है। साथ ही हमें हमेशा अपने रिश्तों की कद्र करनी चाहिए। वरना अगर समय आगे बढ़ गया तो हमें पछतावे के अलावा कुछ नहीं मिलेगा। ऐसे में अगर आप भी किसी से अपने दिल की बात कहने का इंतजार कर रहे हैं, तो फिर इंतजार कैसा, कह दीजिए आपके दिल में जो कुछ हो।

आपको ये Indian Sad Love Story in Hindi कैसी लगी हमें ज़रूर बताये.

अगर आपको भी ऐसी ही कोई इमोशनल लव स्टोरी पता है तो आप भी अपनी कहानी हमारी वेबसाइट पर पब्लिश कर सकते है. आप अपनी स्टोरी हमें write@shortstoriesinhindi.com पर भेज सकते है. स्टोरी बिलकुल original होनी चाहिए. स्टोरी के साथ अपनी एक फोटो और 2 लाइन में अपनी bio भी सेंड करना ना भूले.

Shalini Singh

I am Shalini and I love writing Hindi stories. I am keen observer and writing for this site since July 2018. I believe every human being has a story and I love exploring that ! Like us on Facebook.

You may also like...

5 Responses

  1. nitish kumar says:

    wow story to bahut mast hai.

  2. Arpita Kmari says:

    meri kahani bhi kuch aisi hi hai jab haam dono ek dusre ko chahte thee tab haam ek dusre se ye kehna sake ki shayad hamari dosti bhi na toot jaye per vo dosti wala rishta bhi nhi raha vo ab ek dusre ke liye nafrat ka karan ban gaya hai .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *