ये किसान सरकारी नौकरी छोड़ खेती से कमा रहा करोडो – Success Farmer Story in Hindi

Success Farmer Story in Hindi Submitted by Ronish Garewal

हरीश धनदेव ने साल 2012 में अपनी इंजीनियरिंग की पढाई पूरी की उसके कुछ समय बाद ही उन्हें जयपुर म्युनिसिपेलिटी में जूनियर इंजीनियर के तौर पर सरकारी नौकरी मिल गयी. हरीश का सपना MBA करने का था लेकिन नौकरी की वजह से वह आगे पढाई नहीं कर सके.

हरीश धनदेव जैसलमेर, राजस्थान के रहने वाले है और पढ़े लिखे होने की वजह से उन्होंने एक बड़ा सपना देखा था. सरकारी नौकरी करते हुए हरीश को अभी कुछ महीने ही हुए थे कि उनका मन वहां से उखड गया. हरीश आमदनी के नए नए तरीके खोजने लगे और आख़िरकार उन्हें बीकानेर कृषि यूनिवर्सिटी में एक सज्जन मिले जिन्होंने हरीश को एलो वेरा की खेती का सुझाव दिया.

Success Farmer Story in Hindi

हरीश एलो वेरा की खेती के बारे में और ज़्यादा जानना चाहते थे और इसलिए वे दिल्ली में आयोजित एक कृषि सेमिनार में गए जहाँ उन्हें एलो वेरा खेती की नयी तकनीकों के बारे में जानकारी मिली. हरीश ने अलोव वेरा खेती के बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी इकठ्ठा की और दिल्ली से बीकानेर आ गए जहाँ से उन्होंने 25,000 अलोएवेरा के पौधे खरीदे और फिर उन सभी पौधों को जैसलमेर ले आये, जहाँ के वह मुलत: रहने वाले है.

harish dhandev farmer kahani

Success Farmer Story in Hindi

जब हरीश जैसलमेर पहुंचे तो इलाके के कई किसानो ने हरीश को बताया कि उन्होंने ने भी पहले अलोव वेरा की खेती करने की सोची थी लेकिन समस्या ये थी कि जैसलमेर में अलोव वेरा कोई नहीं खरीदता था. हरीश को पता चल गया था कि सिर्फ एलो वेरा की खेती करने से कुछ नहीं होगा, इसकी अच्छे से मार्केटिंग भी करनी होगी और यहाँ उनकी पढाई बहुत काम आयी.

हरीश ने जल्द ही खेती शुरू की और जैसलमेर की कुछ कॉस्मेटिक कंपनियों से संपर्क किया. जैसलमेर की कई कंपनियां हरीश के मार्केटिंग और कृषि कौशल से बहुत प्रभावित हुई और इस तरह हरीश ने अपने खुद के खेती बिज़नेस का पहला कदम रखा. अब हरीश चाहते थे कि उनकी कंपनी को पूरे भारतवर्ष में विख्याति मिले, इसलिए हरीश ने एलो वेरा की खेती और भी ज़्यादा बढ़ा दी और मार्केटिंग के लिए इंटरनेट का सहारा लिया.

अब हरीश इंटरनेट पर एलो वेरा के बड़े खरीदारों की खोज में जुट गए और इसी दौरान उनकी नज़र बाबा रामदेव जी की कंपनी पतंजलि के एक विज्ञापन पर पड़ी. उन्हें पता चला कि पतंजलि भारत में एलो वेरा की सबसे बड़ी ख़रीददार है. बस फिर क्या था, हरीश ने पतंजलि की वेबसाइट पर जाकर एक ईमेल किया जिसमे उन्होंने अपने और अपनी कंपनी के बारे में बताया. कुछ ही दिनों में हरीश को जवाब भी आ गया और उन्हें इस सिलसिले में मिलने को कहा.

Success Farmer Story in Hindi

ये हरीश के जीवन का एक सुनहरा मोड़ था.

Read More:

हरीश बताते है कि पतंजलि के साथ काम करने के बाद उनका बिज़नेस खूब आगे बढ़ा. अब हरीश की कंपनी Naturelo Agro में कई लोग काम करते है और वे अच्छी खासी तनख्वाह भी लेते है. हरीश अपनी खेती की क्वालिटी पर विशेष ध्यान देते है और इसी वजह से आज वह पतंजलि जैसी कई अन्य कंपनियों को एलो वेरा सप्लाई करते है. आज हरीश धनदेव हर साल करोडो रुपये कमाते है और ये सिर्फ उनकी मेहनत, लगन और खुद पर विश्वास की वजह से मुमकिन हो सका. हरीश जैसे लोग आज के युवाओं के लिए एक प्रेरणा है.

आपका इस Success Farmer Story in Hindi के बारे में क्या राय है, हमें कमेंट में ज़रूर बताये. अगर आप हरीश धनदेव की कहानी से प्रेरित है तो इस पोस्ट को शेयर ज़रूर करे.

Vineet

नमस्ते। मुझे नयी कहानियां लिखना और सुनना अच्छा लगता है. मैं भीड़-भाड़ से दूर एक शांत शहर धर्मशाला (H.P) में रहता हूँ जहाँ मुझे हर रोज़ नयी कहानियां देखने को मिलती है. बस उन्ही कहानियों को मैं आपके समक्ष रख देता हूँ. आप भी इस वेबसाइट से जुड़ कर अपनी कहानी पब्लिश कर सकते है. Like us on Facebook.

You may also like...