जब टॉयलेट में Labour Pain शुरू हो गया, शुक्र है कार में डिलीवरी नहीं हुई

Labour Pain Story in Hindi by Aakriti Deshmukh

मेरा नाम आकृति देशमुख है. शाम को 5:30 बजे का वक़्त था. मैं बैठ कर टीवी देख रही थी. कुछ देर बाद मैं टॉयलेट में गयी तो अच्चानक मुझे एक झटका सा लगा और असहनीय दर्द होने लगा.

 

मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरा शरीर मेरे वश में नहीं है. मैं समझ गयी कि मेरा पानी फूट गया. मैं चिल्लाई और जल्दी से फ़ोन ढूंढने लगी ताकि मैं अपने पति को बुला सकू. घर में मेरी सांसु माँ थी, मैंने उन्हें बुलाया और उन्होंने फटाफट मेरे पति को फ़ोन लगाया.

Delivery Story in Hindi

 

उस वक़्त घर में मैं और सासु माँ के इलावा और कोई नहीं था. अब मुझे टेंशन होने लगी थी क्यूंकि 10 मिनट हूँ चुके थे और अभी तक मेरे पति नहीं आये थे.

 

तभी मेरे पति की गाडी की आवाज़ आयी और मेरी जान में जान आयी. तभी मेरा दर्द और भी तेज़ हो गया. मैं फिर चिल्लाई “जल्दी करो, जल्दी करो.” मैं अपने पति पर भी चिल्लाई “इतनी देर क्यों लगा दी, पता है कितना दर्द हो रहा है”. पति शांति से सुन रहे थे और कहा “बस अभी पहुँच जाएंगे हॉस्पिटल, घबराओ मत”

Labour Pain Story in Hindi

मैं जैसे ही हॉस्पिटल जाने के लिए कार में बैठी, मेरा दर्द और बढ़ गया और मुझे लगा कि मेरे नीचे कुछ है. मैंने हाथ लगा कर देखा तो बच्चे का सर बाहर आ रहा था, मैं और घबरा गयी और सोचने लगी कि कही कार में ही डिलीवरी ना हो जाए.

 

मैंने पति को कहा “जल्दी चलाओ गाडी और जितना जल्द हो सके मुझे हॉस्पिटल पहुंचाओ”

 

हॉस्पिटल के गेट पर पहुँचते ही मेरे पति भागते हुए कही चले गए, मेरा गुस्सा तो जैसे सांतवे आसमान पर पहुँच गया. “अरे, कहा जा रहे हो मुझे यहाँ छोड़कर, इधर आओ” मैं चिल्लाई. मेरे पति जल्दी से एक व्हीलचेयर लेकर आये और मुझे उस पर बिठाया और बड़ी स्पीड से मुझे हॉस्पिटल के अंदर ले गए.

Delivery Story in Hindi

डॉक्टर से बात करके के 5 मिनट में मेरे पति वापिस आये और फिर मुझे डिलीवरी रूम में ले जाया गया. डिलीवरी रूम में जाते ही मैं कांपने लगी क्यूंकि वो कमरा बहुत ठंडा था. डॉक्टर ने मुझे पुश करने के लिए कहा ताकि बच्चा बाहर आ सके. 30 मिनट के बाद जब मुझे होश आया तो मैंने देखा नर्स के हाथ में मेरा बच्चा था.

 

2 घंटे के बाद मुझे पूरी तरह होश आया और अपनी नन्ही पारी को प्यार किया. उसका नाम हमने Monalika रखा है जो कि अब 6 महीने की हो चुकी है.

अगर आपको ये Labour Pain Story in Hindi अच्छी लगी तो शेयर करना ना भूले.

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

Kuch Ladko ki Soch Ladkiyo ke Liye Kabhi Nahi Badal Sakti
तो क्या हुआ अगर मैं मोटी हू, Size Zero से तो अच्छी ही हू – Ketki Subhash
अपने पति की इन 5 आदतों से परेशान हो गयी हूँ – Story by Rashmi Sinha
True Fiendship Story in Hindi – सच्ची दोस्ती की कहानी

जानिये क्यों है मेरे पति दुनिया के Best Husband – कनिका मित्तल
समाज ने मर्द को कही का ना छोड़ा – Short Sad Story in Hindi
“Uth Jaa Nalayak, Diwali aa Rahi Hai” – Short Story About Mother in Hindi
My First Karva Chauth Story in Hindi – सुनिए एक फौजी की पत्नी की जुबानी
कोई मुझसे पूछे गरीबी क्या है – Short Story on Poverty in Hindi

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते