Respect Elders Story in Hindi – बड़ो की इज़्ज़त करना बहुत ज़रूरी है

Respect Elders Story in Hindi

Submitted by Sushil Kumar

Respect Elders Story in Hindi

शाम का वक़्त था, मैं ट्रैन में जम्मू से दिल्ली जा रहा था. जम्मू में मैं किसी काम के सिलसिले से आया था. कुछ देर बाद एक आदमी और औरत मेरे बगल की सीट पर आकर बैठ गए, वो काफी बूढ़े थे. मैंने अपने पैर थोड़ा इकट्ठे कर लिए ताकि वो ठीक से बैठ जाए क्यूंकि बड़ो की इज़्ज़त करना मुझे बचपन से सिखाया गया था.

Respect Elders Story in Hindi

कुछ देर बाद रात हो गयी. अब मुझे भी नींद आने लगी थी. तभी मैंने देखा कि उस बुजुर्ग आंटी ने अपने थैले में से खाने की एक पोटली निकाली. उन्होंने थैला खोला और उसमे आलू गोभी की सब्ज़ी थी और बहुत सारी पूरिया थी. मेरे मुंह में पानी तो आ रहा था लेकिन क्या करता. मैं आँखें बंद करके सोने की कोशिश करता रहा.

Respect Elders Story in Hindi

तभी उस बुजुर्ग आंटी ने मुझे नींद से उठाया और कहा “बेटा… रात हो गयी है खाना खा लो.”

 

मैंने कहा “नहीं आंटी, मुझे भूख नहीं, आप खाइये”

 

उस आंटी ने फिर कहा “बेटा, थोड़ा खा लो, मुझे पता है तुम्हे भूख लगी होगी”

 

मैंने फिर कहा “माँ जी, आप खाइये, जब मुझे भूख लगेगी तो मैं खा लूंगा. यहाँ ट्रैन में भी खाना मिलता है”

 

मैंने जब ये कहा तो उस बुजुर्ग आंटी और अंकल ने खाने की पोटली बंद कर दी और बैग में रख दी.

Respect Elders Story in Hindi

ये देख कर मुझे बड़ी हैरानी हुई और मैंने उनसे पुछा “आपने खाना थैले में क्यों रख दिया, आप खाइये, इसमें शर्माने की ज़रूरत नहीं”

 

ये सुनकर उस बुजुर्ग महिला ने कहा “वैसे तो हमारा कोई बच्चा नहीं लेकिन अगर होता तो वो बिलकुल तुम्हारी उम्र का होता। तुम मेरे बेटे जैसे हो, क्या कोई माँ अपने बच्चे को बिना खाना खिलाये खाना खा सकती है? जब तुम्हे भूख होगी तो हमें बता देना, हम इकट्ठे खाना खाएंगे”

Respect Elders Story in Hindi

उनकी ये बातें सुनकर मैं इमोशनल सा हो गया. मैंने उसी वक़्त कहा “चलिए माँ जी, इकट्ठे खाना खाते है”

 

उनके साथ खाना खाते खाते मैं सोच रहा था कि ऐसा प्यार और सदभाव सिर्फ हमारे देश में ही देखने को मिलता है. चाहे मैं उनके लिए अजनबी था लेकिन फिर भी उन्होंने मुझे इतने प्यार से खाना खिलाया।

आपको सच बताऊ तो मैंने आज तक इतनी टेस्टी पूरी और गोभी की सब्ज़ी कभी नहीं खायी थी. मेरा दिल इतना खुश था उस दिन क्यूंकि किसी अजनबी से इतना प्यार मिलना कोई आम बात नहीं है.

Respect Elders Story in Hindi

मैंने उन दोनों अंकल और आंटी का फ़ोन नंबर ले लिया था और आज भी कभी-कभी उनसे बात करता हु. जब भी मैं उन माँ जी से बात करता हु तो उनके चेहरे की ख़ुशी साफ़ महसूस कर पाता हूँ. मैं हमेशा भगवान से यही प्रार्थना करता हू कि उन दोनों को स्वस्थ रखे और उन दोनों का साथ ज़िन्दगी भर यूँही बना रहे.

दोस्तों, बड़ो की इज़्ज़त करना बहुत ज़रूरी है. वो चाहे थोड़ा इमोशनल हो लेकिन उन्हें ज़न्दगी की परख है. उन्हें पता है क्या सही है और क्या गलत. मेरा मानना है कि हर एक युवा को थोड़ा समय किसी ना किसी बुज़ुर्ग के साथ ज़रूर बिताना चाहिए.

हमेशा बड़ो की इज़्ज़त करे और हो सके तो उनको खुश रखने की कोशिश करे.

Friends, agar ye Respect Elders Story in Hindi aapko kaisi lagi hame comment me zarur bataye. Ar Aapke pas bhi koi story ho to hame bheje, publish kiya jayega.

Submit Your Story

 

ये भी पढ़े:

Indian True Love Story in Hindi – पीले सूट वाली दिल ले गयी

जीरो से हीरो की कहानी – Zero to Hero Success Story in Hindi

Best lines for Mother in Hindi – माँ पर प्यारी सी दिल छू लेने वाली लाइन्स

ऐसे प्रोपोज़ किया कि वो मना नहीं कर पायी – My Propose Story in Hindi

बांझपन की कहानी – एक बच्चा भी ना दे पायी, इनफर्टिलिटी स्टोरी

हनुमान जी के चमत्कार की कहानी – जब मुझे और मेरे बच्चे को बचाया बजरंगबली ने

किन्नर की दुनिया जन्म से मौत तक – Kinner Life & Death Story in Hindi

पति से जीतना मुश्किल ही नहीं नामुनकिन है – Husband Wife Funny Story in Hindi

जब पिता जी को मेरे लव अफेयर का पता चला…..First Love Story in Hindi

जब माँ को मेरे ड्रग्स का पता चला.. Drug Addiction Story in Hindi

मेरी ज़िन्दगी में 2 सबसे खूबसूरत लड़कियां – Emotional Kahani

ये हिन्दोस्तान की सेना है जनाब, सबसे तेज़.. सबसे घातक !!

जानिये कैसे की मैंने आर्मी भर्ती की तैयारी – एक फौजी की ज़बानी

जब अपने से बड़ी लड़की से प्यार हुआ – मस्तभरी मस्ती की कहानी

पंचमढी की यात्रा – Travel Story in Hindi

Mere BF ne Mujhe Baaho me Lekar…..Best Romantic Story in Hindi

1 Response

  1. pooja tiwari says:

    सर , बडे बुजुर्ग का परिवार मे होना कितना जरुरी है , ये कोविड के समय समझ आया . आपकी हर समस्या के सामने आपके अपने खडे रहते है .

Leave a Reply

Your email address will not be published.

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते