पंचमढी की यात्रा – Travel Story in Hindi

Travel Story in Hindi

हरियाली और वन्य जीवों से परिपूर्ण सतपुडा के घने जंगलों से घिरा पंचमढी अत्यंत सुंदर और मोहक स्थान है. मै और मेरे मित्र ने पंचमढी जाने की योजना बनाई, सबकुछ तय समय से हो गया, हमारी रात नौ बजे की ट्रेन थी, हम उस समय वाराणसी आए थे, तो हमने वाराणसी से पिपरिया की ट्रेन बुक कराई थी, क्योकि पिपरिया से पंचमढी बहुत निकट है. खैर शाम को वाराणसी की गंगा आरती देख हमने अपना सामान लिया और स्टेशन के लिए रवाना हो गए, तंग गलियों से होते हुए हम जैसे तैसे स्टेशन पहुंच ही गए, और प्लेटफार्म पहूँच कर हमने पहले से ही खडी ट्रेन मे अपना सामान अपनी निर्धारित सीट पर रख कर चैन की साँस ली.

Travel Story in Hindi

ट्रेन वाराणसी मे बिल्कुल खाली ही थी, मात्र चंद लोग ही थे उसमे, तभी हमारे साथ वाले एक यात्री से हमारी बाते शुरू हुई, उसने हमको ट्रेन मे होशियार होने को कहा और लूट पाट,चोरी की कहानी बताने लगा. उसने बताया कि ट्रेन जब मध्य प्रदेश की सीमा मे प्रवेश करेगी, तो सतना जंक्शन मे अक्सर लूट की वारदात होती है, यह सुनकर मै और मेरे मित्र के होश ही उड गए और सहम कर हमने एक दूसरे की ओर देखा.

Travel Story in Hindi

हमने एक दूसरे को समझाया और सतर्क होकर बैठे रहे,जिस यात्रा को हम रोचक समझकर आए थे, अब हर एक मिनट ये सफर हमें डराने लगा था. कुछ ही देर मे ट्रेन का टी टी भी आया और उसने भी इस बात की पुष्टि कर दी, देर रात को ट्रेन मे लोगो का आना जाना लगा रहा, पर हम दोनो को कहा नींद आने वाली थी, जैसे तैसे ट्रेन सतना जंक्शन पहुंची और हमारी सांसे तेज हो गई थी. हमने एक दूसरे को सतर्क किया, देर रात का समय था करीब रात के तीन बज रहे थे, नींद से आखे भारी हो रही थी, सबने अपने कोच के दरवाजे बंद कर दिए थे, मानो सभी यात्रियों के मन मे एक सा भय था.

Travel Story in Hindi

ट्रैन सतना स्टेशन रूकी और निर्धारित समय से चल पडी, जैसे जैसे ट्रेन आगे बढ रही थी हमारी चिंता भी बढने लगी थी, उस समय का वरनन करना शब्दों में आसान नही है, सुबह होने को आए थी, सुबह के चार बजने वाले थे, ट्रेन मे सब अब जैसे भय मुक्त से हो गए थे, जैसे ईश्वर ने उस रात हमको बचा लिया हो, सबने राहत की सांस ली और तभी मैने ट्रेन की खिडकियों से उगता हुआ सूरज देखा, जो बहुत ही सुंदर और आकर्षक था, ट्रेन समय से चल रही थी, हमारा स्टेशन आने वाला था, सुबह के अब आठ बज रहे थे.

Travel Story in Hindi

अब मन मे पंचमढी जाने की उत्सुकता बढने लगी थी, तभी हमारा स्टेशन पिपरिया आगया और हम भय मुक्त होकर ईश्वर का नाम लेकर उतर गए.

बाहर आकर हमने लोगो से पंचमढी जाने का रास्ता पूछा, मानो प्रकृति हमको खुद अपने पास बुलाना चाहती थी. उसी समय एक जीप हमको मिली और उस मे बैठकर हम लोग पंचमढी के लिए निकल गए. जैसे जैसे हम पंचमढी के नजदीक जा रहे थे, सतपुडा के पर्वत सघन जंगल मानो अपना अनुपम सौंदर्य दिखाने लगे थे. वो यात्रा अपने मे ही एक अलग अनुभव था, जिसको देखकर हमारी सारी थकान मिटने लगी थी.

Travel Story in Hindi

पिछली रात की वो भयावह बाते सब धूमिल होने लगी थी, और मन मे उत्साह उमड़ने लगा था. हम पंचमढी पहुंचे और शीघ्र ही होटल बुक कर हमने सामान रखा और कुछ देर आराम किया, कि तभी होटल के मालिक ने हमारा रूम खटखटाया और खाने के बारे में पूछा। हमने उनसे पूछ लिया कि क्या हम आज पंचमढी घूमने जा सकते है, हमने उनसे सारी जानकारी ली, तभी उसने बोला की आप लोगों की तरह, दो और मित्र है जो विलासपुर से आए है, अगर आपको ठीक लगे तो आप सब साथ मे ही पंचमढी घूम सकते है.

Travel Story in Hindi

हमने भी हाँ कह दिया, वो उसी होटल मे हमारे रूम के निकट ही रूके थे, खैर एक से भले दो, और दो से भले चार, हम तैयार हुए और चारो निकल पडे. पंचमढी के सुंदर रूप को देखने, हमने दो दिन पंचमढी मे गुजारे कब वो दिन गुजर गए, कुछ पता ही नही चला, जाते समय मन बहुत भारी हो रहा था, मानो प्रकृति के गोद से हमको कोई उतार रहा हो.

Travel Story in Hindi

शब्दो मे वहां का वरनन करना सरल नही, हर एक दृश्य ही अपने मे एक अदभुत कहानी है। इस यात्रा से मैंने यह अनुभव किया कि आज के आधुनिक युग और आविष्कार सुविधाए कितना भी हम को आराम दे, परंतु प्रकृति की तुलना नही कर सकता, उसका अनुभव और स्थान ही अलग है, इसलिए हम सबको प्रकृति की रक्षा करने का प्रण करना चाहिए, जिसे की इस सुन्दर स्थान की यात्रा हमारी आने वाली पीढी भी कर पाए।

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

“मम्मी पापा, मुझे माफ़ कर देना” Emotional Suicide Story in Hindi
काश एक ओर ज़िन्दगी मिल जाये – HIV Story in Hindi
हाँ, मुझे दहेज़ चाहिए …. Dowry Story in Hindi
Doraemon की ये कहानी सुन रोना आ जाएगा – Death of Doraemon in Hindi
जब एक लड़के ने अपना सर मेरे कंधे पर रख दिया – Emotional True Story in Hindi
“मेड इन इंडिया” – Small Funny Story in Hindi

डायपर की वजह से बच्चे को मिली दर्दनाक मौत – Sad Real Life Story in Hindi
पीरियड्स के वो 3 सबसे गंदे दिन – My First Period Story in Hindi
शरारती बच्चा की कहानी – Story of Kid in Hindi
पत्नी की इन आदतों की वजह से रोज़ बोलता हू उसे I Love You

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते