Mam…..आपने शादी क्यों नहीं करवाई – A Very Special Story in Hindi

एक Girl’s college में एक बेहद खूबसूरत मैडम ने ज्वाइन किया। जब वह पहले दिन आयी तो सभी बच्चो से बहुत प्यार से बाते करती थी जिस्से कि बहुत ही जल्द बच्चे उस मैडम के साथ खुल गए. एक दिन फ्री पीरियड में बच्चे और वो मैडम आपस में बात चीत कर रहे थे तो एक लड़की ने उस मैडम से उनकी उम्र पूछी. मैडम ने बताया कि वह 34 साल की है. लड़कियों ने पुछा कि “Mam आपके बच्चे कौनसी क्लास में पढ़ते है?” तो mam ने जवाब दिया कि मेरी अभी तक शादी नहीं हुई. सभी लड़कियां हैरान थी कि इतनी खूबसूरत होकर भी अभी तक शादी क्यों नहीं हुई. एक लड़की ने तो पूछ भी लिया “Mam …  आपने अभी तक शादी क्यों नहीं करवाई?” जवाब में मैडम ने कहा कि मैं तुम्हे एक कहानी सुनाती हूँ.

Madam ने कहानी सुनानी शुरू की…

एक गाँव में एक औरत थी जिसकी पांच बेटियां थी. उसका पति बहुत परेशान था क्यूंकि वो बेटा चाहता था. पति ने अपनी बीवी को धमकी दी कि अगर इस बार बेटा ना हुआ तो वो उस नवजात लड़की को बाहर फेंक देगा. कुछ दिन बाद वो औरत प्रेग्नेंट हुई लेकिन इस बार भी बेटी हुई. उसके पति ने अपनी ज़ुबान के मुताबिक रात को उस नवजात लड़की को दूर एक चौराहे पर रख आया. बेचारी माँ अपनी नयी जन्मी बच्ची के लिए रोती रही लेकिन कुछ नहीं कर पायी। अगले दिन उस औरत का पति उस नव जन्मी लड़की को देखने गया तो देखा वो लड़की वही चौराहे पर पड़ी है, उसे किसी ने नहीं उठाया था. इसलिए वो उस लड़की को वापिस घर ले आया लेकिन अगली ही रात फिर से चौराहे पर छोड़ आया, इस उम्मीद में कि कोई तो उसे उठा कर ले जाएगा. लेकिन फिर वही हुआ, किसी ने उस लड़की को नहीं उठाया और वो आदमी उस नन्ही लड़की को दुबारा घर ले आया.

ये सिलसिला कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा. वो हर रात को उस लड़की को चौराहे पर छोड़ आता लेकिन कोई नहीं उठाता उसे. उस आदमी ने सोचा कि भगवान् की यही मर्जी है कि इस लड़की को मैं ही पालू, ये सोच कर वह लड़की को घर ले आया लेकिन कभी उसे प्यार नहीं किया.

एक साल के बाद उस आदमी की पत्नी फिर से प्रेग्नेंट हुई और इस बार उसे लड़का हुआ. परन्तु, कुछ दिन बाद उस आदमी की पांच बेटियों में से एक की मौत हो गयी. उसके बाद उस औरत के पांच बेटे हुए लेकिन हर बेटे के बाद एक बेटी की मौत हो जाती थी. अब उस दंपत्ति के पांच बेटे और एक बेटी बची. जिस बेटी से बाप अपनी जान छुड़ाना चाहता था, जिसे चौराहे पर छोड़ आया था सिर्फ वो बेटी अब ज़िंदा थी. सब बच्चे बड़े हो गए और माँ की भी मृत्यु हो गयी.

उस आदमी के जितने भी लड़के थे, वे उसे छोड़ कर दूर शहर में बस गए और अब कभी कबार ही आते है. वो आदमी अब बूढा हो चूका है और अपनी देख भाल भी खुद नहीं कर सकता।

फिर टीचर ने कहा कि तुम लोग जानते हो जिस लड़की को वो बाप चौराहे पर छोड़ आया था वो कौन है – वो मैं हूँ !

मेरे पिता अब इतने बूढ़े हो चुके है कि ठीक से खाना भी नहीं खा सकते, मुझे उनकी देख भाल करनी पड़ती है और इसीलिए मैंने अभी तक शादी नहीं करवाई. मेरे पिता बहुत शर्मिंदा है और अक्सर मुझसे अपनी उस हरकत के लिए माफ़ी मांगते रहते है. मैं सब कुछ भूल गयी हूँ, आखिर है तो वो मेरे पिता ना.

ये सुन कर सभी लड़कियों की आँखें नम थी और उन्होंने मैडम की बहादुरी की बहुत प्रशंसा की।

कहनी का सार

दोस्तों, बेटियां बाप के लिए अनमोल होती है. माँ बाप का दर्द समझती है बेटियां, घर को रोशन करती है बेटियां। रुलाते है जब बेटे तब हंसाती है बेटियां. जब दर्द देते है बेटे तब मरहम लगाती है बेटियां। छोड़ जाते है जब बेटे तब  बेटियां समालती है.

दोस्तों, अगर ये कहानी आपको अच्छी लगी तो इसे शेयर ज़रूर करे.

ये भी पढ़े:

दोस्तों यह कहानी A Very Special Story with Moral in Hindi आपको कैसी लगी हमें, कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और आपके पास भी कोई कहानी हो तो हमें भेजे जल्दी पब्लिश किया जायेगा।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते