शहीद फौजी के वो अंतिम 5 मिनट – Indian Army Soldier Story in Hindi

Indian Army Soldier Story in Hindi Submitted by K.S Mehra

Indian Army Soldier Story in Hindi

आजकल ज़्यादातर लोग फौजियों की नौकरी को ऐश की नौकरी समझते है. उन्हें लगता है फौजियों को अच्छी तनख्वाह मिलती है, कैंटीन में सस्ता सामान मिलता है और कई सुविधाएं मिलती है इसलिए फौजी की ज़िन्दगी बड़ी अच्छी है….

 

जी हाँ, ये सब ठीक है कि फौजियों को कई सुविधाएं मिलती है लेकिन फौजी की ज़िन्दगी इतनी भी आसान नहीं जनाब. महीनो तक अपने घरवालों, पत्नी और बच्चो से दूर रहकर देखिये ज़रा. कभी झुलसा देने वाले रेगिस्तान में पोस्टिंग होती है तो कभी जमा देने वाले ठन्डे इलाके में.

Indian Army Soldier Story in Hindi

आज मैं आपको एक ऐसी फौजी की कहानी बताने जा रहा हू जिसके बारे में सुनकर आपकी रूह कांप जायेगी लेकिन गर्व भी होगा.

 

ये कहानी है शहीद फौजी कप्तान सौरभ कालिया (Captain Saurabh Kalia) की. जब सौरभ कालिया ने फ़ौज की ट्रेनिंग पूरी की तो उनकी पूरी फॅमिली और रिश्तेदार बहुत खुश थे. लेकिन उनकी ख़ुशी ज़्यादा दिन की नहीं थी.

Indian Army Soldier Story in Hindi

15 मई 1999 को सौरभ कालिया और जाट रेजिमेंट के 5 अन्य सैनिक पेट्रोलिंग के लिए लद्दाख के काकसर की पहाड़ियों पर गए थे. वहां सौरभ कालिया और सभी 5 सैनिको को पाकिस्तान के आतंकियों ने अगवा कर बंदी बना लिया. उन पाकिस्तानी आतंकियों ने इन सैनिको को सिर्फ बंदी ही नहीं बनाया बल्कि इनके साथ वो किया जो सुन कर आपकी रातो की नींद उड़ जायेगी.

 

आतंकियों ने सौरभ कालिया और सैनिको के बदन को सिगरेट से जलाया. उन्होंने सैनिको के कान में लोहे की गरम सीखें डाली, आँखें निकाल दी, सिर में कई वार किये, शरीर के अंग नोच डाले, गुप्तांगो को काट दिया और ना जाने क्या क्या किया और फिर अंत में उन्हें गोली मार दी.

Indian Army Soldier Story in Hindi

उन आतंकियों ने हमारे फौजी भाईयो को इतनी दर्दनाक मौत दी.

ये सुनकर आपका खून तो खोल गया होगा.

सिर्फ यही नहीं दोस्तों, Captain Saurabh Kalia के पिता श्री NK Kalia ने सरकार से अपने बेटे को न्याय दिलाने की मांग की तो कुछ हाथ ना मिला. इनके पिता पिछले बीस सालो से अपने बेटे को न्याय दिलाने की कोशिश कर रहे है लेकिन सब व्यर्थ.

Indian Army Soldier Story in Hindi

आपको पता है कैप्टन सौरभ कालिया के पिता क्या सोचते है ?

 

“मुझे शर्म आती है कि मैं भारतीय हू. इस देश के नेता सिर्फ राजनीति करना जानते है”

 

जी हाँ, यही सोचते है सौरभ कालिया के पिता और शायद ये काफी हद तक ठीक भी है.

 

भगवान सौरभ कालिया और सभी शहीद सैनिको की आत्मा को शांति दे.

Friends, agar ye Indian Army Soldier Story in Hindi padh kar aapka bhi khoon khola to ise SHARE zarur kare.

जय हिन्द

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

जानिये कैसे की मैंने आर्मी भर्ती की तैयारी – एक फौजी की ज़बानी

My First Karva Chauth Story in Hindi – सुनिए एक फौजी की पत्नी की जुबानी
जब मिलिट्री ट्रेनिंग के दौरान कैडेट की मौत हो गयी – Military Walo ki Training
मेजर नवनीत और शिवानी की लव स्टोरी – Indian Army Love Story in Hindi
एक फौजी की बेटी होना कैसा अनुभव है, सुनिए अर्शदीप कौर की ज़ुबानी।
जब मेरे फौजी पति के जूनियर ने मुझे सैल्यूट किया – आर्मी स्टोरी
रोमांच, हिम्मत और बलिदान से भरी मेजर सुधीर वालिया की एक आर्मी स्टोरी   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते