अपने कर्मो का फल इसी जन्म में भुगतना पड़ेगा – Real Story in Hindi

Real Story in Hindi Submitted by Rohan Bhardwaj

मेरा नाम रोहित शुक्ला है. मेरे पिता और मेरी माँ की अरेंज्ड मैरिज हुई थी. शादी के कुछ सालो तक तो सब ठीक था लेकिन शादी के 5 साल के बाद मेरी माँ को पता चला कि मेरे पिता का किसी और लड़की के साथ अफेयर है. जब मेरी माँ को इस बात का पता चल तो मेरे माँ और पिता के बीच लड़ाईयां होने लगी. जल्द ही मेरे पिता ने मेरी माँ को छोड़ दिया और अपनी गर्लफ्रेंड के साथ शादी कर ली.

real story in Hindi

Real Story in Hindi

इस का मेरी माँ पर इतना गहरा सदमा लगा कि वे हर वक़्त उदास रहने लगी. वे अपने आप को बंद अँधेरे कमरे में बंद लेती थी और घंटो रोती थी. उस दिन के बाद मुझे मेरे पिता से नफरत हो गयी थी क्यूंकि मेरे पिता ने अपने स्वार्थ के लिए मुझे और मेरी माँ को धोखा दिया. मेरे पिता का अच्छा ख़ासा बिज़नेस था और इसलिए वो और उनकी दूसरी पत्नी अमरीका में जा कर बस गए. मेरे दादा दादी यही दिल्ली में रहते थे और वो भी अपने बेटे से नाराज़ थे लेकिन वो उससे बात ज़रूर करते थे क्यूंकि मेरे पिता उन्हें हर महीने पैसे भेजते रहते थे.

Real Story in Hindi

समय बीतता गया और मेरी माँ की हालत बद से बदतर हो गयी. उनका बहुत इलाज करवाया गया लेकिन वो डिप्रेशन में रहती थी. वो अपना रिश्ता टूटने के गम से बाहर ही नहीं निकल सकी. मैं अब 20 साल का हो चूका हूं और दोस्तों इतने सालो से मैं अपनी माँ के साथ ही रह रहा हूँ. यूँ कहे कि इतने साल माँ ने नहीं बल्कि मैंने माँ का ख्याल रखा और इसका ज़िम्मेदार सिर्फ मेरे पिता है. मेरी माँ डिप्रेशन में सिर्फ मेरे पिता की वजह से गयी और इस बीमारी से वे कभी उभर ही नहीं पाई. आज भी उनका इलाज चल रहा है. ना तो मुझे माँ का अच्छे से प्यार मिला और ना ही मैं अपनी पढाई पर ढंग से फोकस कर पाया.

Real Story in Hindi

खैर… कुछ दिन पहले मुझे दादा जी का फ़ोन आया और उन्होंने बताया कि मेरे पिता की हालत बहुत खराब है. उन्हें कैंसर हो गया है और मेरे दादा जी अगले हफ्ते उनसे मिलने अमरीका जा रहे है. दादा जी चाहते थे कि मैं भी उनके साथ चलु क्यूंकि वे ज़्यादा पढ़े लिखे नहीं है और उन्हें दूसरे मुल्क जाने से डर लग रहा था. मैं जाना तो नहीं चाहता था लेकिन दादा जी की खातिर सोचा कि उनके साथ चल पडू.

Real Story in Hindi

जब हम अमरीका पहुंचे तो एक कैंसर हॉस्पिटल में मेरे पिता का इलाज हो रहा था और वे वह दाखिल थे. उनकी हालत काफी खराब लग रही थी. वहां जाकर हमें पता चला कि मेरे पिता की दूसरी पत्नी उनकी बीमारी जानने के बाद उन्हें छोड़ कर किसी दूसरे शहर चली गयी और उसने धोखे से मेरे पिता की सारी संपत्ति अपने नाम करवा ली. मेरे पिता का बिज़नेस भी डूब चूका था और बीमारी पर खर्चा भी बहुत हो रहा था. मेरे पिता ने मुझे अपने पास बुलाकर मुझसे अपने किये की माफ़ी भी मांगी। उनकी ये हालत देख कर मैं समझ गया था कि ये मेरी माँ की बददुआ ही है जो इनकी ऐसी हालत है और मैं मन में सोच रहा था कि वाकई में इंसान को अपने कर्मो का फल इसी जन्म में भुगतना पड़ता है.

Real Story in Hindi

आज एक साल के बाद भी मेरे पिता की हालत काफी ख़राब है और सभी डॉक्टर्स ने जवाब दे दिया है कि कुछ महीने में ये नहीं रहेंगे. मैं ना तो खुश हू और ना ही दुखी हू, बस ये सोचता हू कि काश मेरे पिता ने मेरी माँ को धोखा ना दिया होता तो आज हमारा परिवार कितना खुश होता.    

Friends ye thi ek emotional rea story in Hindi. Is story ka moral yahi hai ki insaan ke karm hi uski destiny decide karta hai. If you like this story, Please Share and Comment.    

Submit Your Story

ये भी पढ़े:

जब स्कूल में सुसु निकल गया – Embarrassing Childhood Story in Hindi

“ज़िन्दगी का कोई भरोसा नहीं” – Story about Life in Hindi

Respect Elders Story in Hindi – बड़ो की इज़्ज़त करना बहुत ज़रूरी है

जब मैं पाकिस्तान गया तो फर्क पता चला – India Pakistan Story in Hindi

अपने ही पति के मौत की रिपोर्टिंग एंकर द्वारा – Great Story in Hindi

बांझपन की कहानी – एक बच्चा भी ना दे पायी, इनफर्टिलिटी स्टोरी

किन्नर की दुनिया जन्म से मौत तक – Kinner Life & Death Story in Hindi

जब माँ को मेरे ड्रग्स का पता चला.. Drug Addiction Story in Hindi

मेरी ज़िन्दगी में 2 सबसे खूबसूरत लड़कियां – Emotional Kahani

पंचमढी की यात्रा – Travel Story in Hindi

मौत का मंज़र आँखों के सामने – Death Story in Hindi

जब बेटा चला माँ के प्यार का ऋण उतारने – Mother Story in Hindi with Moral

“मम्मी पापा, मुझे माफ़ कर देना” Emotional Suicide Story in Hindi

काश एक ओर ज़िन्दगी मिल जाये – HIV Story in Hindi

हाँ, मुझे दहेज़ चाहिए …. Dowry Story in Hindi

जब एक लड़के ने अपना सर मेरे कंधे पर रख दिया – Emotional True Story in Hindi

डायपर की वजह से बच्चे को मिली दर्दनाक मौत – Sad Real Life Story in Hindi

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिना परमिशन कॉपी नहीं कर सकते